सांगानेर भाजपा मंडल...क्या से क्या हो गया देखते...देखते

- वार्ड 89 के दीपक सोपरा को बनाया आईटी संयोजक, सोपरा ने लेने से किया मना



जस्ट टुडे
जयपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के करिश्माई नेतृत्व की वजह से वर्तमान में हर काई भाजपा से जुडऩे को लालायित है। वहीं इससे इतर सांगानेर भाजपा मंडल से लोग किनारा करना उचित समझ रहे हैं। सांगानेर भाजपा मंडल अध्यक्ष की कार्यशैली के चलते सैकड़ों कार्यकर्ता इनसे दूरी बना चुके हैं। चूंकि अब अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में प्रदेश भाजपा संगठन एक्टिव मोड पर है। उसने सभी मंडल अध्यक्षों को पन्ना प्रमुख बनाने से लेकर ज्यादा से ज्यादा कार्यकर्ताओं को जोडऩे का लक्ष्य दिया है। लेकिन, सांगानेर भाजपा मंडल में नए कार्यकर्ता बनना तो दूर पारम्परिक कार्यकर्ता भी अब इनसे दूर रहना ही पसंद कर रहे हैं।
    सांगानेर भाजपा मंडल के एक पदाधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि कई दफा रूठे कार्यकर्ताओं को मनाने की कोशिश की जा चुकी है। उन्हें पद देने की बात भी कही गई। लेकिन, उन्होंने वर्तमान मंडल अध्यक्ष के नेतृत्व में काम करने से मना कर दिया है। पदाधिकारी की मानें तो सांगानेर मंडल अध्यक्ष नए लोगों को पदाधिकारी बनाकर भी भाजपा में जोडऩे का ऑफर दे रहे हैं। लेकिन, फिर भी लोग सांगानेर भाजपा मंडल में जुडऩा पसंद नहीं कर रहे हैं। सांगानेर भाजपा मंडल में कुछ ऐसी ही बानगी देखने को मिली है।

मैं जनसेवक पुष्पेन्द्र भारद्वाज की टीम का सदस्य: सोपरा
दरअसल, सांगानेर भाजपा मंडल की ओर से वार्ड 89 स्थित कमला नगर के निवासी दीपक सोपरा को वार्ड 90 आईटी संयोजक का दायित्व दिया गया। सांगानेर भाजपा मंडल की ओर से इस सम्बंध में सूची भी जारी कर दी गई। इस सूची के बाद दीपक सोपरा ने इस पद को लेने से मना कर दिया। सोपरा ने बताया कि सांगानेर भाजपा मंडल की ओर से यह दायित्व बिना मेरी स्वीकृति के दिया गया है। इस दायित्व का मैं निर्वहन करने में असमर्थ हूं। इसके साथ ही दीपक सोपरा ने साफ किया कि वे सांगानेर विधानसभा के जनसेवक पुष्पेन्द्र भारद्वाज की टीम में हैं। साथ ही वार्ड 90 की कार्यकारिणी से पूर्व में भी मुझे कोई पद नहीं मिला हुआ है। ऐसे में साफ है कि प्रदेश संगठन की ओर से दिए गए लक्ष्य को पूरा करने की जल्दबाजी में पदों की बंदरबांट की जा रही है। जिससे कागजी तौर पर लक्ष्य की पूर्ति की जा सके।

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार

सांगानेर बाजार में पटाखे की चिंगारी कहर बनकर टूटी