समर्पण संस्था का 12 वां विशाल रक्तदान शिविर 6 मार्च को

- पोस्टर का विमोचन, 34 रक्तदाता प्रेरक नियुक्त, 250 से अधिक यूनिट रक्त एकत्रित करने का लक्ष्य


जस्ट टुडे
जयपुर।
मानवता व परोपकार के लिए समर्पित समर्पण संस्था की ओर से 6 मार्च को 11 वां विशाल रक्तदान शिविर व संगोष्ठी का आयोजन किया जाएगा।  प्रताप नगर सेक्टर -11 स्थित सामुदायिक केन्द्र में इस शिविर का आयोजन किया गया। रक्तदान शिविर के लिए संस्था पदाधिकारियों द्वारा एक मीटिंग में कार्यक्रम के पोस्टर का विमोचन किया गया। मीटिंग का आयोजन संस्था के मुख्य सलाहकार व पूर्व जिला न्यायाधीश उदय चन्द बारूपाल की अध्यक्षता में हुआ। इसमें रक्तदाता प्रेरकों व सदस्यों ने भाग लिया।
    संस्था द्वारा शिविर में रक्त एकत्रित करने के लिए सवाई मानसिंह चिकित्सालय ब्लड बैंक, राजकीय जयपुरिया हॉस्पिटल ब्लड बैंक तथा स्वास्थ्य कल्याण ब्लड बैंक की टीमों को आमंत्रित किया गया है। शिविर प्रात: 9:30 बजे से दोपहर 2 बजे तक आयोजित किया जाएगा। इसी के समानान्तर संगोष्ठी का आयोजन किया जाएगा। शिविर में रक्तदाता बढ़-चढ़कर हिस्सा लें। इसके लिए 34 रक्तदाता प्रेरक नियुक्त किए गए हैं। सभी रक्तदाता प्रेरकों को 10 या अधिक रक्तदाताओं को मोटिवेट कर रक्तदान करवाने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। 

रक्तदाताओं और प्रेरकों को मिलेगा सम्मान


संगोष्ठी का विषय 'रक्तदान, अंगदान व देहदान का महत्व' रखा गया है । संगोष्ठी में  गणमान्य अतिथि और वक्ता अपने-अपने विचार सम्बंधित विषय पर प्रस्तुत करेंगे। शिविर में नेत्रदान व देहदान का भी काउंटर लगाया जाएगा। यदि कोई नेत्रदान/देहदान करना चाहते हैं तो संस्था कार्यालय से फार्म लेकर उसे पूर्ण करके शिविर के दिन जमा करवा सकते हैं। शिविर में संस्था द्वारा सभी रक्तदाताओं को प्रशस्ति पत्र व उपहार भेंट किए जाएंगे। 10 से अधिक रक्तदाताओं को मोटिवेट कर रक्तदान करवाने वाले रक्तदाता प्रेरकों/सदस्यों/सामाजिक कार्यकर्ताओं को संस्था के आगामी कार्यक्रम में सम्मान पत्र भेंट कर सम्मानित किया जाएगा।


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार