हनुमान बगीची में बह रहा गंदा पानी, सामने आई यह सच्चाई

- स्थानीय लोगों ने कहा, हमसे पार्षद या किसी ने भी नहीं मांगें पैसे

- पार्षद ने दिया, समस्या के समाधान का जल्द भरोसा


जस्ट टुडे
जयपुर। ग्रेटर नगर निगम के वार्ड 92 में मालपुरा गेट के पास किसान कॉलोनी स्थित हनुमान बगीची के रास्ते में गंदा पानी बह रहा है। इससे स्थानीय निवासी परेशान हो रहे हैं। इसे लेकर कई सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी कई पोस्ट वायरल हो रही हैं। उन पोस्ट में दावा किया रहा है कि पार्षद की ओर से स्थानीय लोगों से समस्या के समाधान के लिए एक घर से दस-दस हजार रुपए मांगे हैं। यह पूरा वाकया जस्ट टुडे के पास भी आया। इस पर जस्ट टुडे ने जमीनी हकीकत का पता लगाने के लिए मौका-मुआयना किया। स्थानीय लोगों से इस बारे में बात की। बहते गंदे पानी की भी पूरी कहानी मालूम की। जैसा जस्ट टुडे ने पाया, वैसा ही पाठकों के सामने। 

सीवर लाइन बंद होने से बह रहा गंदा पानी

जस्ट टुडे ने हनुमान बगीची में जाकर देखा कि गंदा पानी सड़क पर बह रहा है। इससे स्थानीय नागरिकों के साथ ही राहगीरों को भी बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इस पर जस्ट टुडे ने स्थानीय लोगों से इस बारे में पूछा, इस पर लोगों ने बताया कि यहां पर जो सीवर लाइन डली हुई है, वह आगे से बंद है। यानी उसके बाद सीवर लाइन नहीं डली हुई है। ऐसे में पहले लोगों ने सीवर लाइन में ही पानी छोड़ रखा था। चूंकि, जब पानी को आगे बहने का कोई रास्ता ही नहीं है तो वह जमा होकर बाहर फैलने लग गया। इसके लिए लोगों ने बताया कि सीवर लाइन को आगे तक बढ़वाया जाए तो इस समस्या का समाधान हो सकता है। 

स्थानीय लोगों ने नकारा पैसे मांगने की बात

इसके बाद जस्ट टुडे ने स्थानीय लोगों से पूछा कि क्या इसके लिए पार्षद ने या फिर पार्षद प्रतिनिधि ने आपसे 10 हजार रुपए या किसी भी राशि की मांग की। इस पर स्थानीय लोगों ने इसे सिरे से खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि पार्षद या अन्य किसी की ओर से हमसे कोई भी राशि की मांग नहीं की गई। 


स्थानीय निवासी ताराचंद सैनी से जस्ट टुडे ने पूछा कि पार्षद, पार्षद प्रतिनिधि या अन्य किसी भी व्यक्ति ने पार्षद के नाम पर आपसे 10 हजार रुपए या अन्य किसी राशि की मांग की है। इस पर ताराचंद सैनी ने कहा कि यह गलत है, हमसे किसी ने भी किसी भी राशि की डिमांड नहीं की है। इस बात में कोई सच्चाई नहीं है। 





वहीं अन्य स्थानीय निवासी अख्तर से भी जस्ट टुडे ने इस बारे में पूछा, इस पर उन्होंने बताया कि पार्षद या अन्य किसी ने भी आज तक उनसे किसी भी प्रकार के पैसों की डिमांड नहीं की है। 



समस्या का कोई भी करे समाधान: निजाम मोहम्मद

स्थानीय निवासी और सांगानेर अंगरेज सोसायटी, सांगानेर के अध्यक्ष निजाम मोहम्मद अंगरेज ने जस्ट टुडे को बताया कि स्थानीय विधायक को बहुत फण्ड मिलता है। इसके बाद भी सांगानेर के लोग गंदगी में रहने को मजबूर हैं। पानी की निकासी की समस्या का तुरन्त समाधान होना चाहिए। इस मामले पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। यहां पर सभी समाज के लोग मिल-जुलकर रहते हैं, और आगे भी ऐसा ही हो। उन्होंने कहा कि लोगों की समस्या का समाधान चाहे तो जनसेवक पुष्पेन्द्र भारद्वाज करें या फिर विधायक अशोक लाहोटी करें या स्थानीय पार्षद विजेन्द्र सैनी करें, लोगों की समस्या का समाधान तुरन्त होना चाहिए। 

झूठी अफवाह फैलाने वालों को जनता दे चुकी जवाब

इसके बाद जस्ट टुडे ने स्थानीय पार्षद प्रतिनिधि विजेन्द्र सैनी से समस्या और पैसे मांगने के बारे में पूछा। इस पर विजेन्द्र सैनी ने बताया कि राजनीतिक द्वेष के चलते कुछ लोग इस तरह की झूठी अफवाह फैला रहे हैं। आप खुद लोगों से बात कर सच्चाई का पता लगा सकते हैं। जिन लोगों को चुनाव में जनता ने नकार दिया, वे विकास के कार्यों में मीनमेख निकालने का काम कर रहे हैं। जनता उन्हें चुनाव में जवाब दे चुकी है, इसलिए ज्यादा कहना अच्छा नहीं होगा। 

विकास कार्यों से विपक्ष की उड़ी नींद

इस समस्या के बारे में विजेन्द्र सैनी ने बताया कि जनसेवक पुष्पेन्द्र भारद्वाज के प्रयासों से इस कॉलोनी में सड़क और नाली का निर्माण कराया गया। इससे पहले के जनप्रतिनिधियों ने इस कॉलोनी की सुध ही नहीं ली थी। हमारी ओर से विकास कार्य होते देख विपक्षियों की नींद उड़ गई। इसलिए वे इस मुद्दे पर राजनीतिक रोटियां सेंकने का कार्य कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि कॉलोनी की सीवर लाइन को जल्द ही मुख्य लाइन से जुड़वाएंगे, इसके बाद कॉलोनी की समस्या का समाधान हो जाएगा। इसके लिए कॉलोनीवासियों से भी समझाइश की है। जब तक मुख्य सीवर लाइन से कनेक्शन नहीं होता है, तब तक प्रेम और शान्ति से रहें और पानी कम से कम सड़क पर फैले, इसकी व्यवस्था करें। इसके लिए कॉलोनीवासियों की एक कमेटी भी गठित कर दी गई है। 


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार

सांगानेर बाजार में पटाखे की चिंगारी कहर बनकर टूटी