'ओम' हटे तो सांगानेर भाजपा मंडल में फैले 'प्रकाश'

- सांगानेर भाजपा और सिन्धी समाज  के वरिष्ठ नेता सतीश वासवानी ने मंडल अध्यक्ष पर किया जमकर जुबानी हमला

जस्ट टुडे
जयुपर। सांगानेर भाजपा के वरिष्ठ नेता और सिन्धी समाज के बड़े पदाधिकारी सतीश वासवानी ने फिर मंडल अध्यक्ष ओमप्रकाश शर्मा पर जमकर जुबानी प्रहार किया है। भाजपा नेता वासवानी का कहना है कि परीक्षा में 33 फीसदी अंक लाने वालों को ही पास माना जाता है, लेकिन सांगानेर भाजपा मंडल अध्यक्ष तो निकाय चुनाव में 33 फीसदी के आंकड़े के आस-पास भी पार्टी को नहीं पहुंचा पाए।
निकाय चुनाव में 10 वार्डों में से सिर्फ 2 वार्ड ही जीते, ऐसे में इनका रिपोर्ट कार्ड सिर्फ 20 फीसदी ही रहा।
             वासवानी ने कहा कि मंडल अध्यक्ष अपने वार्ड 93 में भी भाजपा को नहीं जिता पाए। वासवानी का कहना है कि जब किशनपोल विधानसभा के किशनपोल मंडल अध्यक्ष को 10 वार्ड में से सिर्फ 3 वार्ड जीतने पर हटाया जा सकता है, तो फिर सांगानेर भाजपा मंडल में तो 30 फीसदी का आंकड़ा भी नहीं छूने वाले मंडल अध्यक्ष को क्यों नहीं हटाया जा रहा है। वासवानी ने कहा कि मंडल अध्यक्ष ओमप्रकाश शर्मा को 'फेल' होने के बाद भी कौन बचा रहा है? पार्टी संगठन को यह देखना चाहिए। वासवानी ने कहा कि भाजपा में कार्यकर्ताओं को वरीयता दी जाती है। ऐसे में कार्यकर्ताओं की भावनाओं का खयाल करते हुए पार्टी संगठन को जल्द से जल्द मंडल अध्यक्ष को बदलना चाहिए। 

चाटुकारों की ही रह गई फौज

वासवानी ने कहा कि सांगानेर भाजपा मंडल में निष्ठावान कार्यकर्ताओं के बजाय चाटुकारों की फौज ही रह गई है। ये लोग नौटंकी करते हुए फोटोबाजी करते हैं और स्वयं की बढ़ाई खुद ही कर लेते हैं। सच बात कहने वालों को ये लोग मिलकर आंखें दिखाते हैं। पार्टी के निष्ठावान और परम्परागत कार्यकर्ताओं को जानबूझकर साइडलाइन किया जा रहा है। इन लोगों की इसी कार्यशैली की वजह से पार्टी को निकाय चुनाव में भारी पराजय का सामना करना पड़ा था। यदि पार्टी संगठन अभी भी नहीं चेता तो फिर विधानसभा चुनाव में पार्टी को इसका बड़ा खमियाजा भुगतना पड़ेगा। 

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार