पीआरएन साउथ में बारिश बाद डलेगी सीवर लाइन

- मुख्यमंत्री गहलोत ने बजट में की थी घोषणा, जेडीए ने शुरू की तैयारी

प्रतीकात्मक फोटो

जस्ट टुडे
जयपुर।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की बजट घोषणा के अनुसरण में आखिकार जेडीए ने पृथ्वीराज नगर (पीआरएन)में सीवरेज लाइन का तोहफा दे दिया है। इस पर करीब 725 करोड़ रुपए खर्च होंगे। जेडीए ने पीआरएन को नॉर्थ और साउथ दो हिस्सों में बांटा है। ऐसे में साउथ हिस्से में सांगानेर, रेलवे स्टेशन, मुहाना मंडी और गोपालपुरा बाइपास के आस-पास का क्षेत्र आता है। जेडीए का कहना है कि पहले चरण के लिए 17.1 करोड़ की निविदा जारी कर दी है, यहां पर बारिश के बाद सीवरेज डालने का कार्य किया जाएगा। वहीं दूसरे  चरण में 22 करोड़ की तकनीकी वित्तीय स्वीकृति अभी प्रक्रियाधीन है। वहीं नॉर्थ हिस्से में अगले साल सीवरेज लाइन डलेगी। 

17.1 करोड़ की वित्तीय स्वीकृति जारी

साउथ हिस्से में सीवर लाइन के लिए प्रथम चरण में 17.1 करोड़ रुपए की निविदा भी जारी हो चुकी है। वहीं दूसरे चरण में 22 करोड़ रुपए की तकनीकी वित्तीय स्वीकृति प्रक्रियाधीन है। साउथ में 1300 हैक्टेयर  जमीन पर 5.45 लाख आबादी को इससे फायदा होगा। हालांकि, जेडीए का कहना है कि यहां पर बारिश के बाद ही सीवर लाइन डालने का कार्य शुरू होगा। 

नए साल में शुरू होगा काम

नॉर्थ हिस्से में कालवाड रोड, अजमेर रोड, गोपालपुरा बाइपास और नारायण विहार सहित कई कॉलोनियां आती हैं। यहां पर जेडीए की ओर से अगले साल सीवर लाइन डाली जाएगी। ऐसे में 320 अनुमोदित और 187 गैर अनुमोदित कॉलोनियां पीआरएन नॉर्थ में है। 

भारद्धाज के प्रयासों से गहलोत ने दिए तोहफे

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस कार्यकाल में सांगानेर विधानसभा में सौगातों की बारिश कर रखी है। कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्वाज के प्रयासों से मुख्यमंत्री गहलोत ने ऐसा किया है। गहलोत इस कार्यकाल में सांगानेर में कॉलेज, सैटेलाइट अस्पताल, इंग्लिश मीडियम स्कूल सहित मानसरोवर में सबसे बड़े सिटी पार्क का तोहफा दे चुके हैं। वहीं बीसलपुर पेयजल लाइन, सीवर लाइन के बड़े कार्य सहित वर्तमान में सांगानेर विधानसभा में हो रहे हैं। पिछले कई वर्षों से सांगानेर की जनता इन विकास कार्यों के लिए तरस गई थी। इसका श्रेय कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्वाज को जाता है। स्थानीय जनता का कहना है कि चुनाव हारने के बाद भी पुष्पेन्द्र भारद्वाज विधानसभा में पूरी तरह सक्रिय रहे। लोगों की मांगों को सीएम गहलोत तक पहुंचाया। ऐसे में सीएम गहलोत ने भी उनकी मांगों को पूरा किया। इससे पहले किसी भी कांग्रेस प्रत्याशी ने हारने के बाद इस तरह की जमीनी मेहनत नहीं की थी। ज्ञात हो कि सांगानेर विधानसभा में अभी तक भाजपा के प्रत्याशी ही विजयी होते आ रहे हैं। 

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार