बिना वैक्सीन अभिभावक भी नहीं स्कूल खोलने के पक्ष में

- 9 से 12वीं तक के स्कूल खोलने के राज्य 

- सरकार के आदेश को संयुक्त अभिभावक संघ ने की वापस लेने की मांग


जस्ट टुडे
जयपुर।
संयुक्त अभिभावक संघ ने गुरुवार को दावा किया है कि प्रदेश का 70 प्रतिशत अभिभावक अभी स्कूलों को खोलने के पक्ष में नहीं है। गौरतलब है कि शिक्षा विभाग कक्षा 9 से 12वीं तक के स्कूल खोलने पर विचार कर रहा है। जिस पर संघ ने कहा कि शिक्षा विभाग पूरी तरह से निजी स्कूलों के दबाव में आकर स्कूल खोलने पर विचार कर ना केवल छात्र-छात्राओं के साथ खिलवाड़ करने की योजना बना रहा है बल्कि वह अभिभावकों और शिक्षकों के जीवन से भी खिलवाड़ करने की योजना बना रहा है। 

निजी स्कूलों का दबाव

प्रदेश प्रवक्ता अभिषेक जैन बिट्टू ने कहा कि परीक्षा को लेकर बिना वैक्सीन एग्जाम ना करवाने का प्रस्ताव रखने वाले शिक्षा विभाग के अधिकारी अब बिना वैक्सीन के स्कूल खोलने पर विचार कैसे कर सकते हैं। शिक्षा विभाग और शिक्षा मंत्रालय को संयम बरतते हुए अभी स्कूलों को खोलने पर बिल्कुल भी विचार नहीं करना चाहिए। जैन ने दावा किया कि उनके खुद के सर्वे और कुछ अन्य सर्वे में प्रदेश के अभिभावकों ने स्पष्ट संकेत दिए हैं कि वह अभी स्कूल खोलने पक्ष में बिल्कुल भी नहीं हैं। अभिभावकों का कहना है कि सरकार और शिक्षा विभाग अपने कर्तव्यों का पालन ना करते हुए केवल निजी स्कूलों के दबाव में आकर स्कूलों को खोलने पर विचार कर रहे हैं, जो पूरी तरह से अभिभावकों के खिलाफ है। 

स्कूलों पर मुकदमा करे राज्य सरकार

जयपुर जिला अध्यक्ष युवराज हसीजा ने कहा कि  निजी स्कूलों के संगठन ने राज्य सरकार को चेतावनी जारी करते हुए 16 जुलाई से स्कूल खोलने का दावा किया है। राज्य सरकार को उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही सुनिश्चित करनी चाहिए। जो राज्य सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन को दरकिनार कर छात्र-छात्राओं सहित अभिभावकों और शिक्षकों के जीवन से खिलवाड़ करने की योजना बनाकर खुली चेतावनी दे रहे हैं।

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार