कुमुद मैमोरियल ट्रस्ट के शिविर में 426 यूनिट रक्त एकत्रित

- कोरोना काल में ब्लड की कमी को देखते हुए जरूरतमंदों की सेवा के लिए लगाया शिविर: एडिशनल एसपी देशराज यादव 

- सांगानेर विधानसभा में कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्वाज और वार्ड 83 पार्षद शंकर बाजडोलिया ने बढ़ाया रक्तदाताओं का हौसला


जस्ट टुडे
जयपुर।
कुमुद मैमोरियल ट्रस्ट के तत्वावधान में न्यू सांगानेर रोड पर स्वर्ण पथ स्थित स्वर्ण गार्डन में विशाल रक्तदान शिविर आयोजित किया गया। महावीर कैंसर हॉस्पिटल और एसएस अग्रवाल ब्लड बैंक के सहयोग से आयोजित प्रथम रक्तदान शिविर में करीब 426 यूनिट रक्त एकत्रित किया गया। रक्तदाताओं को प्रशस्ति-पत्र देकर सम्मानित भी किया गया। शिविर में कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्वाज सहित आईएएस और आईपीएस अफसरों ने रक्तदाताओं का हौसला बढ़ाया। शिविर में ग्रेटर नगर-निगम के वार्ड 83 पार्षद शंकर बाजडोलिया ने सहभागी की अहम भूमिका निभाई। 

जरूरतमंदों की सेवा को लगाया शिविर


शिविर के संयोजक एडिशनल एसपी देशराज यादव ने बताया कि राज्य सरकार के सकारात्मक प्रयासों से कोरोना का असर तो लगभग खत्म हो चुका है। कई ऐसी गंभीर बीमारियां होती हैं, जिनमें मरीज को रक्त की सख्त आवश्यकता होती है। चूंकि, कोरोना में रक्तदान शिविर कहीं नहीं लगे थे, ऐसे में ब्लड बैंकों में रक्त की कमी हो गई। इसलिए जरूरतमंदों की सेवा करने के लिए रक्तदान शिविर लगाने का फैसला किया। 

अतिथियों ने बढ़ाई कार्यक्रम की शोभा


रक्तदान शिविर में मुख्य अतिथि एडीजी दिनेश एमएन, आईएएस नीरज के.पवन, एसपी मामन सिंह, डॉ. करन सिंह यादव, सांगानेर विधानसभा में कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्वाज, आरपीएस रघुवीर सैनी, सिद्धांत शर्मा, धर्मेन्द्र यादव, प्रेमदान, शालिनी, थानाधिकारी ज्योति नगर सरोज घायल, सुमित भगासरा ने कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई। वहीं पवन यादव, रवि हेमलानी, नारायण सिंह चौधरी, सारिका चौधरी, करन सिंह, इस्माइल मंसूरी, राजीव आसलीवाल, शरद हिंगड़, राजेश शर्मा, मानवेन्द्र शर्मा ने शिविर में अहम योगदान दिया।

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार