अण्डे सेवे कोई, बच्चे लेवे कोई : कूलवाल

 - ग्रेटर नगर-निगम के वार्ड 90 से कांग्रेस पार्षद प्रत्याशी घनश्याम कूलवाल ने विकास कार्यों में श्रेय लेने पर भाजपा जनप्रतिनिधियों पर बोला हल्ला

जैम विहार कॉलोनी में सड़कों के डामरीकरण कार्य के सम्बंध में कॉलोनीवासियों से चर्चा करते पार्षद प्रत्याशी घनश्याम कूलवाल।
जस्ट टुडे
जयपुर। एक कहावत है, अंडे सेवे कोई, बच्चे लेेवे कोई। यानी मेहनत कोई करे और दूसरा उसका फल उठाए। पिछले कुछ समय से सांगानेर विधानसभा में भी ऐसा ही खेल चल रहा है। यह कहना है ग्रेटर नगर-निगम के वार्ड 90 से कांग्रेस पार्षद प्रत्याशी घनश्याम कूलवाल का। कूलवाल ने बताया कि सांगानेर विधानसभा में कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्वाज की ओर से लगातार विकास के कार्य कराए जा रहे हैं। ऐेसे में सांगानेर विधानसभा में जहां पर भी विकास कार्य शुरू होते हैं, वहां विपक्षी पार्टी भाजपा के जनप्रतिनिधियों की ओर से इसका श्रेय लेते हुए माला पहनी जा रही है। कूलवाल ने आरोप लगाया कि वार्ड 90 स्थित जैम विहार कॉलोनी में कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्वाज की ओर से सड़कों का डामरीकरण कार्य करवाया जा रहा है। लेकिन, वार्ड 90 भाजपा पार्षद पवन गोठरवाल ने कार्यकर्ताओं के साथ माला पहन ली और अब इसे अपना कार्य बता रहे हैं। घनश्याम कूलवाल ने कहा कि इससे साफ पता चलता है कि भाजपा जनप्रतिनिधि विकास के कार्य तो करवा नहीं रहे हैं सिर्फ दूसरों के कार्यों का श्रेय लेने में लगे हुए हैं। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि ये पब्लिक है...सब जानती है। जस्ट टुडे ने इस सम्बंध में पक्ष जानने के लिए पार्षद पवन गोठरवाल को कई बार फोन किया। इस पर उन्होंने कहा कि अभी ऑफिस में बैठा हूं। लोग हस्ताक्षर कराने आए हैं। अभी बिजी हूं। बाद में आपसे बात करता हूं। इस पर जस्ट टुडे ने काफी समय बाद फिर पार्षद गोठरवाल को कई बार फोन किए, लेकिन, उन्होंने फोन रिसीव नहीं किया। 

अक्टूबर 2020 में हुआ वर्क ऑर्डर जारी


वार्ड 90 से कांग्रेस पार्षद प्रत्याशी घनश्याम कूलवाल ने बताया कि ग्रेटर नगर-निगम के वार्ड 90 स्थित जैम विहार कॉलोनी में सड़कों का डामरीकरण कार्य चल रहा है। निकाय चुनाव में हुए परिसीमन से पहले यह क्षेत्र वार्ड 39 में आता था। कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्वाज की ओर से दिसम्बर 2019 में तत्कालीन वार्ड 39 में सड़कों, पार्क और सीवर लाइनों के लिए एक कार्ययोजना बनाई गई थी। अक्टूबर 2020 में भारद्वाज की मांगों पर वर्क ऑर्डर भी जारी हो गए थे। अक्टूबर 2020 में इन्हीं वर्कऑर्डर के तहत जैम विहार कॉलोनी की दो गलियों में सीवर लाइन डालने का कार्य पूरा हो गया था। उसके बाद सड़कों का कार्य भी नवम्बर 2020 में शुरू हो गया था। सड़क की खुदाई के बाद कच्ची रोड बनकर तैयार हो चुकी थी। इसके बाद सर्दी की वजह से डामरीकरण का कार्य शुरू नहीं हो पाया था। जब सर्दी खत्म हुई तो निगम के ठेकेदारों ने भुगतान के अभाव में हड़ताल कर दी। उसके बाद फिर से लॉकडाउन लग गया था। ऐसे में निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पाया था। 

सकारात्मक राजनीति करें भाजपा जनप्रतिनिधि

कूलवाल ने बताया कि दो दिन पहले उन्होंने कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्वाज से इस सड़क का डामरीकरण कराने का आग्रह किया। इस पर तत्काल कार्रवाई करते हुए 15 जून से कार्य शुरू करवा दिया गया। इसके बाद भाजपा पार्षद पवन गोठरवाल रात के अंधेरे का फायदा उठाकर कुछ खास लोगों के साथ जैम विहार कॉलोनी में आए। उन्होंने निर्माण कार्य के साथ फोटो खींचे और सोशल मीडिया पर अपलोड करके श्रेय लेने की कोशिश की। कूलवाल ने भाजपा जनप्रतिनिधियों से इस तरह की झूठ की राजनीति करने के बजाय सकारात्मक राजनीति करने की सलाह दी। 

जस्ट टुडे के रियलिटी चैक में यह आया सामने

जस्ट टुडे ने इस पूरे तथ्य का रियलिटी चैक किया। इसमें सामने आया कि जैम विहार कॉलोनी में अक्टूबर 2020 में निर्माण कार्य के वर्क ऑर्डर जारी हुए थे। उस समय पवन गोठरवाल पार्षद नहीं बने थे। ऐसे में यह संभव नहीं है कि जैम विहार में जो निर्माण कार्य चल रहा है, वह पार्षद पवन गोठरवाल की ओर से करवाया जा रहा है। वहीं जस्ट टुडे ने नगर-निगम के जिम्मेदारों से इस बारे में बात की। जस्ट टुडे ने उनसे पूछा कि जैम विहार कॉलोनी में डामरीकरण का कार्य किसकी ओर से कराया जा रहा है, इस पर उन्होंने कहा कि नगर-निगम की ओर से कराया जा रहा है। जस्ट टुडे ने उनसे पूछा कि क्या यह कार्य विधायक कोटे से कराया जा रहा है, तो उन्होंने कहा कि नगर-निगम की ओर से यह कार्य कराया जा रहा है, विधायक कोटे से इसका कोई लेना-देना नहीं है। 

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार