विरोध-प्रदर्शन में सांसद से दूरी...सांगानेर मण्डल की क्या है मजबूरी?

- सांगानेर भाजपा मण्डल में राज्य सरकार के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन करने पहुंचे सांसद के साथ नहीं दिखे मण्डल अध्यक्ष सहित कई पदाधिकारी


जस्ट टुडे
जयपुर।
सांगानेर विधानसभा में भाजपा गुटों में बंटी हुई है, यह अभी तक सिर्फ सुनने में ही आया था। ग्रेटर  निगम महापौर सौम्या गुर्जर के निलम्बन मामले पर सोमवार को सांगानेर भाजपा मण्डल में हुए विरोध-प्रदर्शन में गुटबाजी खुलकर सामने आ गई। राज्य सरकार के खिलाफ  विरोध-प्रदर्शन करने सांसद रामचरण बोहरा आए थे फिर भी सांगानेर भाजपा मण्डल अध्यक्ष सहित कई पदाधिकारियों ने इस कार्यक्रम से दूरी बनाए रखी। सूत्रों का कहना है कि मण्डल अध्यक्ष सहित दोनों महामंत्री, चारों उपाध्यक्ष, पांचों मंत्री और दोनों आईटी प्रमुख सांसद के विरोध-प्रदर्शन में शामिल नहीं हुए।  
          दरअसल, सांगानेर विधानसभा के सियासी गलियारों में यह चर्चा आम है कि सांसद रामचरण बोहरा और विधायक अशोक लाहोटी के अलग-अलग गुट बने हुए हैं। भाजपा के आम कार्यकर्ताओं के साथ ही राजनीति की थोड़ी समझ रखने वाले भी इस बात को बखूबी जानते हैं। चूंकि, सांगानेर मण्डल की टीम अध्यक्ष ओमप्रकाश शर्मा ने अपनी पसंद से बनाई है और वे विधायक अशोक लाहोटी के खास हैं। ऐसे में सांगानेर भाजपा मण्डल के अध्यक्ष सहित पदाधिकारियों ने सांसद रामचरण बोहरा के साथ विरोध-प्रदर्शन में हिस्सा नहीं लिया। ज्ञात हो कि कुछ समय पहले भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा जयपुर में आए थे। इस दौरान उन्होंने प्रदेश भाजपा को गुटबाजी से हटकर संगठित होने की नसीहत भी दी थी। लेकिन, उनकी नसीहत पर अभी तक अमल नहीं किया गया है। 

विरोध-प्रदर्शन पर रही गुटबाजी हावी

सूत्रों का कहना है कि सांसद रामचरण बोहरा ने राज्य सरकार के खिलाफ वार्ड 89 में विरोध प्रदर्शन किया था। इसमें मण्डल अध्यक्ष ओमप्रकाश शर्मा, महामंत्री एडवोकेट संजय शर्मा, महामंत्री छोटू गुर्जर, उपाध्यक्ष सुनील ब्रह्मभट्ट, उपाध्यक्ष रामदुलारी पाण्डे, उपाध्यक्ष सत्यनारायण सैनी, उपाध्यक्ष मुकेश कुमावत, मंत्री अशोक सलोदिया, मंत्री लकी गुप्ता, मंत्री बृजेश शर्मा, मंत्री प्रियंका विनय वाल्मिकी, मंत्री प्रिया गौतम, आईटी प्रमुख संजय मनोहर शर्मा और सह आईटी प्रमुख श्रीकांत जांगिड़ भी इस विरोध-प्रदर्शन में शामिल नहीं हुए। 

                सूत्रों का कहना है कि सांसद बोहरा जिस स्थान पर प्रदर्शन कर रहे थे, वहां से मंत्री लकी गुप्ता का घर सिर्फ 50 मीटर की दूरी पर ही है। सूत्रों के मुताबिक आईटी प्रमुख संजय मनोहर शर्मा उसी समय वार्ड 90 में पार्षद कार्यालय के बाहर धरना दे रहे थे। वार्ड 89 के सामने ही वार्ड 90 है, लेकिन, इन्होंने भी सांसद बोहरा के साथ धरना देने में दिलचस्पी नहीं दिखाई।
                  सूत्रों का कहना है कि प्रियंका विनय वाल्मिकी और प्रिया गौतम, मंत्री बनने के बाद अभी तक किसी भी धरने में शामिल नहीं हुई हैं। इससे साफ होता है कि सांगानेर में गुटबाजी चरम पर है। वार्ड 88 और 91 में भी गिने-चुने कार्यकर्ताओं ने विरोध-प्रदर्शन किया। वार्ड 92 और 96 में कार्यकर्ता नहीं मिलने पर दोनों ने ही अपना संयुक्त विरोध-प्रदर्शन किया।
         वार्ड 94 में हुए विरोध-प्रदर्शन में पार्षद प्रत्याशी गुड्डी कुमावत शामिल नहीं हुईं। पार्षद पति महेन्द्र कुमावत इस प्रदर्शन में जरूर दिखे, लेकिन, ऐसा लग रहा था कि उन्हें जबरदस्ती पकड़कर लाया गया है। पार्षद पति होने के नाते विरोध-प्रदर्शन की अगुवाई करनी चाहिए थी, लेकिन, वे साइड में खड़े होकर जबरदस्ती नारे लगाते ही दिखे। यदि ये सभी पदाधिकारी सांसद बोहरा के साथ प्रदर्शन में शामिल होते तो यह दमदार दिखता। लेकिन, गुटबाजी के चलते सभी अलग-अलग वार्डों में गिने-चुने कार्यकर्ताओं के साथ विरोध-प्रदर्शन की रस्म अदायगी ही करते दिखे। 

बूथ जितने कार्यकर्ता भी नहीं जुटा पाए मण्डल अध्यक्ष... मास्क भी नहीं पहना


सोमवार को हुए विरोध-प्रदर्शन से गायब रहने वाले सांगानेर भाजपा मण्डल अध्यक्ष ओमप्रकाश ने मंगलवार को मण्डल में कार्यकर्ताओं के साथ विरोध-प्रदर्शन किया। उनके साथ गिने-चुने कार्यकर्ता ही विरोध-प्रदर्शन करते नजर आए, जो सिर्फ जिला अध्यक्ष से मिले आदेश की खानापूर्ति ही करते दिख रहे थे। सूत्रों का कहना है कि सांगानेर मण्डल के 10 वार्डों में करीब 70 से ज्यादा बूथ हैं, ऐसे में मण्डल अध्यक्ष के विरोध-प्रदर्शन में 70 कार्यकर्ताओं ने भी हिस्सा नहीं लिया। यानी मण्डल अध्यक्ष एक बूथ से एक कार्यकर्ता को भी विरोध-प्रदर्शन में नहीं बुलवा पाए। साथ ही इस विरोध-प्रदर्शन में भाजपा के परम्परागत और वरिष्ठ कार्यकर्ताओं ने दूरी बनाए रखी। इससे साफ है कि भाजपा में गुटबाजी सिर्फ ऊपर तक ही नहीं है, जमीनी स्तर तक है। इस विरोध-प्रदर्शन की अगुवाई करने वाले सांगानेर भाजपा मण्डल खुद ही कोविड प्रोटोकॉल दो गज की दूरी मास्क है जरूरी की धज्जियां उड़ाते दिखे। इस फोटो में साफ दिख रहा है कि मण्डल अध्यक्ष ने मुंह पर मास्क नहीं पहना हुआ है।  

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार

सांगानेर बाजार में पटाखे की चिंगारी कहर बनकर टूटी