कॉम्पलेक्स की बढ़ाने शान...मानसरोवर में ले ली हरे पेड़ों की जान

विश्व पर्यावरण दिवस पर विशेष

- मानसरोवर स्थित विजय पथ पर कॉम्पलेक्स मालिक ने सेंजना के दो हरे पेड़ों को काटा, युवा एकता मंच के अध्यक्ष ने जिला कलक्टर से की शिकायत

- कलक्टर के निर्देश पर तहसीलदार ने कराया मौका-मुआयना और शिप्रापथ थाने में कर दी कॉम्पलेक्स मालिक की शिकायत


जस्ट टुडे
जयपुर।
कोरोना की दूसरी लहर में लोग ऑक्सीजन के अभाव में दम तोड़ रहे थे, वहीं कुछ स्वार्थी लोग हरे पेड़ों को काटकर ऑक्सीजन की ही सांस तोडऩे में लगे हुए हैं। कंक्रीट की बड़ी-बड़ी इमारतों के फेर में ये स्वार्थी लोग हरे पेड़ों को काटकर वातावरण में ऑक्सीजन का अनुपात कम कर रहे हैं। हरे पेड़ों को काटने का कुछ ऐसा ही मामला मानसरोवर में आया है। मानसरोवर में कॉम्पलेक्स के सामने स्थित दो सहजन(सेंजना) के पेड़ों को काट दिया गया। युवा एकता मंच के अध्यक्ष जयप्रकाश बुलचंदानी ने बताया कि कॉम्पलेक्स मालिक ने इन दोनों पेड़ों को कटवाया है, जिससे उसके कॉम्पलेक्स के बाहर आसानी से पार्किंग बनाई जा सके। बुलचंदानी ने इसकी शिकायत जिला कलक्टर अंतर सिंह नेहरा से की है। कलक्टर अंतर सिंह नेहरा ने इस शिकायत पर कार्रवाई के लिए सम्बंधित तहसीलदार को निर्देश दिए। इस पर सांगानेर तहसीलदार ने मौका-मुआयना कर रिपोर्ट बनाई और शिप्रापथ थानाधिकारी को कार्रवाई के लिए पत्र भी लिखा। 

सांगानेर तहसीलदार की शिकायत पर शिप्रापथ थाने में मामला दर्ज


सांगानेर तहसीलदार ने थानाधिकारी को दी शिकायत में लिखा कि सम्बंधित पटवारी ने प्लॉट नम्बर 104/124, विजय पथ, मानसरोवर में मौके पर जाकर देखा। वहां पर 5 दुकानों का निर्माण कार्य चालू था। मैन रोड से कॉलोनी में जाने वाली गली में भी दुकान निर्माणाधीन हैं। उक्त प्लॉट पर निर्माणाधीन व्यावसायिक कॉम्पलैक्स के सामने 3 सेंजना के पेड़ थे, जिनमें से 2 पेड़ उक्त प्लॉट 104/124 के सामने से श्याम कमलानी की ओर से कटवाया जाना बताया जा रहा है। श्याम कमलानी से उनके मोबाइल नम्बर पर सम्पर्क करने पर उन्होंने इससे अनभिज्ञता जताई और मौके पर आने से मना कर दिया। मौके पर उपस्थित लोगों ने बताया कि उक्त पेड़ कॉम्पलेक्स वालों ने ही कटवाए हैं। इसलिए मौके पर कटे हुए पेड़ों को जब्त कर हरे पेड़ काटने वालों के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई करते हुए सांगानेर तहसीलदार को सूचित करें। इस पर शिप्रापथ थाने में मामला दर्ज कर लिया गया है, इसकी जांच चल रही है। 

मुस्कराकर जड़ से फिर निकला पौधा

प्रकृति का करिश्मा देखिए, कॉम्पलेक्स के लिए जिन लोगों ने हरे पेड़ों को काटा था, उन्हीं पेड़ों की जड़ों से फिर पौधे खिल उठे हैं। धरती मां की गोद से निकला यह पौधा प्रकृति के दुश्मनों के मुंह पर तमाचा है। ऐसे लोगों को यह पेड़ मानों चेतावनी दे रहा है कि मारने वाले से ज्यादा बड़ा पालन करने वाला होता है। भगवान ने भी इस पेड़ के जरिए इनसानों को संदेश दिया है कि पेड़ बचेंगे तो ही तुम भी बचे रहोगे। 

सेंजना पेड़ है गुणों की खान

विशेषज्ञों का कहना है कि सेंजना का पेड़ बहुत ही उपयोगी होता है। इसमें 300 से अधिक रोगों के रोकथाम के गुण हैं। इसमें 90 तरह के मल्टीविटामिन्स, 45 तरह के एंटी आक्सीडेंट गुण, 35 तरह के दर्द निवारक गुण और 17 तरह के एमिनो एसिड मिलते हैं। इसके अलावा ऑक्सीजन का भी बड़ी मात्रा में स्रोत है। 

...तो इनसान का भी खत्म होगा अस्तित्व

विशेषज्ञों का कहना है कि इतने गुणों से भरपूर पेड़ को सिर्फ व्यवसाय चमकाने के लिए काट दिया गया। मनुष्य अपनी भौतिक इच्छाओं की पूर्ति के लिए धड़ाधड़ पेड़ों को काटता ही जा रहा है। सभी को पता है कि पेड़ वातावरण से हानिकारक कार्बनडाइ ऑक्साइड गैस को कम करते हैं और ऑक्सीजन रूपी जीवनदायिनी गैस देते हैं। इसी ऑक्सीजन के चलते इनसान धरती पर जीवित है। यदि पेड़ नहीं रहेंगे तो फिर इनसान का भी अस्तित्व खत्म हो जाएगा। सरकार को ऐसे स्वार्थी किस्म के लोगों पर सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। 

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार

सांगानेर बाजार में पटाखे की चिंगारी कहर बनकर टूटी