जयपुरिया अस्पताल में हरियाली को दी दवा...रोग होंगे हवा

- चिकित्सा सचिव गलारिया के मुख्य आतिथ्य में जयपुरिया अस्पताल में मनाया गया पर्यावरण दिवस, अस्पताल परिसर में लगाए 251 पौधे


जस्ट टुडे
जयपुर।
पर्यावरण दिवस के अवसर पर शनिवार को जयपुरिया अस्पताल में पौधरोपण कार्यक्रम आयोजित किया गया। चिकित्सा शिक्षा विभाग के सचिव वैभव गलारिया की अध्यक्षता में आयोजित हुए इस कार्यक्रम में अस्पताल परिसर में करीब 251 पौधे लगाए गए। पौधरोपण कार्यक्रम में अस्पताल के सभी अधिकारी और कर्मचारियों ने अपनी भागीदारी निभाई। इस मौके पर अतिरिक्त प्रधानाचार्य सवाईमानसिंह चिकित्सा महाविद्यालय डॉ. दीपक माथुर, जयपुरिया अस्पताल के कोविड अधिकारी डॉ. रितु मेहरा, नागरिक सुरक्षा जयपुर के स्वयं सेवक मोहन जेवरिया सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे।

कोरोना ने सिखाया प्रकृति से प्रेम


इस मौके पर चिकित्सा सचिव वैभव गलारिया ने कहा कि वातावरण में ऑक्सीजन का एकमात्र स्रोत पेड़-पौधे ही हैं। इसकी कमी को कोरोना काल के चलते हम सभी ने महसूस किया है। पौधरोपण कार्यक्रम से जनता में सकारात्मक सोच विकसित होती है। प्रत्येक मानव को पौधरोपण करना चाहिए।

प्रत्येक मनुष्य जीवन काल में लगाए पांच पेड़

अस्पताल अधीक्षक डॉ. सुनीत राणावत ने बताया कि समाज-सेवी एम.बी.गोयल की ओर से करीब 50 हजार रुपए कीमत के पौधे-गमले और एक लाख रुपए कीमत के हैण्ड सैनिटाइजर चिकित्सालय को भेंट किए हैं। अधीक्षक डॉ. सुनीत राणावत ने कहा कि छात्र जीवन से ही मैं प्रकृति के संरक्षण और संवद्र्धन से जुड़ा हुआ हूं। मैंने व्यक्तिगत एवं विभिन्न एनजीओ के जरिए अभी तक करीब 5 हजार पौधे लगा चुका हूं। भविष्य में भी इस क्रम को जारी रखूंगा। उन्होंने प्रत्येक व्यक्ति से अपने जीवन काल में कम से कम 5 पेड़ लगाने का आह्वान भी किया। उन्होंने कहा कि ऐसा करने से धरती मां को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। उन्होंने पौधरोपण कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए अस्पताल के सभी कर्मचारियों का भी आभार व्यक्त किया। 

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार