कोरोना से निपटने कांग्रेस नेता भारद्धाज ने किया जंग का ऐलान

- कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्धाज ने की अभियान की शुरुआत, विधानसभा के हर घर को किया जाएगा सैनिटाइजर 

- पहले फेज में तैयार की 10 गाडिय़ां, सरकारी मशीनरी का नहीं किया उपयोग


जस्ट टुडे
जयपुर।
कोरोना महामारी के खिलाफ जंग की शुरुआत करते हुए कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्धाज ने अब सांगानेर विधानसभा को ही वायरस मुक्त करने के लिए अभियान का आगाज किया है। अभियान के तहत कांग्रेस नेता की ओर से सांगानेर विधानसभा के हर घर को सैनेटाइज किया जाएगा। मंगलवार को अपने राजनीतिक कार्यालय से कांग्रेस नेता ने इस अभियान की शुरुआत भी कर दी। खास बात यह है कि इसके लिए कांग्रेस नेता ने सरकारी मशीनरी की किसी भी प्रकार से सहायता नहीं ली है। इस दौरान वार्ड 83 पार्षद शंकर बाजडोलिया, धर्मपाल, जितेन्द्र जाखड़, सुनील पारीक, कैलाश मीणा, रवि पारीक सहित कई युवा साथी मौजूद थे। मालूम हो कि कोरोना महामारी में कांग्रेस नेता लगातार जनता की सेवा कर रहे हैं। उन्होंने ऑक्सीजन सिलेण्डर की व्यवस्था से लेकर दवा, भोजन और अस्पताल में बैड तक क्षेत्र की जनता को उपलब्ध कराए हैं। 

हवा में फैला वायरस, सैनिटाइज से होगा खात्मा

कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्धाज ने बताया कि विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना वायरस अब हवा में भी फैल चुका है। साथ ही सांगानेर विधानसभा से जुड़े वार्डों से ही सर्वाधिक कोरोना संक्रमित मिल रहे हैं। ऐसे में इसको जड़ से खत्म करने के लिए हर गली को सैनिटाइज करने की जरूरत है। इसे देखते हुए सांगानेर विधानसभा के प्रत्येक घर को सैनिटाइज करने के अभियान की शुरुआत की गई है। इसके तहत पहले फेज में 10 सैनिटाइजर गाडिय़ां तैयार करवाईं गईं हैं। विधानसभा के जिस क्षेत्र से सैनेटाइज की डिमांड आएगी, वहां गाड़ी भेज दी जाएगी। साथ ही टीम की ओर से भी लगातार प्रत्येक वार्ड को सैनिटाइज किया जाएगा। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी में हर कार्य के लिए सरकार के ऊपर निर्भर नहीं रहा जा सकता है। कई कार्य अपने स्तर पर भी किए जा सकते हैं। 


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार