ऑक्सीमीटर बैंक बनाकर मानव सेवा का उठाया बीड़ा

- मानव सेवार्थ, परहितार्थ ग्रुप के सदस्यों ने 68 ऑक्सीमीटर एकत्रित कर बनाया बैंक

- आईडी जमा कराकर जरूरतमंद ले सकेगा नि:शुल्क, मरीज सही होने पर करना होगा वापस


जस्ट टुडे
जयपुर।
कोरोना की दूसरी लहर लोगों पर कहर बरपा रही है। लोग ऑक्सीजन, बैड और वेंटिलेटर के लिए मारे-मारे फिर रहे हैं। आर्थिक रूप से कमजोर और घर पर ही कोरोना संक्रमण का इलाज करा रहे लोगों को इस कठिन समय में ऑक्सीमीटर की परम आवश्यकता महसूस हो रही है। क्योंकि, कोरोना संक्रमण में मरीज का ऑक्सीजन लेवल मापना जरूरी होता है। इस लेवल से ही पता चलता है कि मरीज की हालत गंभीर तो नहीं है। ऐसे लोगों के लिए उम्मीद की किरण बनकर सामने आया है 'मानव सेवार्थ, परहितार्थ' नामक वाट्सएप ग्रुप। इस ग्रुप में समाज-सेवी, भामाशाह, व्यापारी और राजनेता भी जुड़े हुए हैं। इन सभी लोगों ने मिलकर ऑक्सीमीटर बैंक बनाया है। इसके जरिए वे जरूरतमंद की नि:शुल्क मदद करेंगे। जस्ट टुडे की विशेष रिपोर्ट।

सदस्यों के उत्साह से दो घंटे में ही लक्ष्य पड़ा छोटा

मानव सेवार्थ, परहितार्थ नामक ग्रुप ने कोरोना की इस भयावह स्थिति को भांपते हुए वाट्सएप के जरिए सभी साथियों से ऑक्सीमीटर खरीदने का प्रस्ताव रखा। इसमें ग्रुप के सदस्यों से अपील की गई कि वे अपनी इच्छा से ऑक्सीमीटर बैंक में ऑक्सीमीटर दें। इसके बाद सबसे पहले कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्वाज ने 5 ऑक्सीमीटर देने का ऐलान किया। इसके तुरन्त बाद ही सांगानेर रंगाई-छपाई के सचिव राजेन्द्र जिंदगर ने भी 5 ऑक्सीमीटर देने पर सहमति व्यक्त की। इसके बाद ग्रुप में ऑक्सीमीटर देने की होड़ लग गई। करीब दो-ढाई घंटे में ही 73 ऑक्सीमीटर की घोषणा हो गई। ग्रुप का लक्ष्य 50 ऑक्सीमीटर एकत्रित करने का था। लेकिन, ग्रुप के सदस्यों के उत्साह से यह लक्ष्य भी छोटा पड़ गया। 

किसने कितने दिए ऑक्सीमीटर

मानव सेवार्थ, परहितार्थ ग्रुप के घनश्याम कूलवाल ने बताया कि पुष्पेन्द्र भारद्वाज और राजेन्द्र जिंदगर के अलावा वार्ड 93 पार्षद दिव्या सिंह और आनंद ग्रे ने 10-10, बन्ना भातरा, मोहित आंकड़, घनश्याम कूलवाल, हेमंत गीता, संदीप शर्मा, नितिन गुप्ता और संजय शर्मा की ओर सेे 5-5 ऑक्सीमीटर दिए गए। साथ ही अनिल अग्रवाल और रमेश शर्मा ने 3-3, पवन वैध ने 2 ऑक्सीमीटर जरूरतमंदों की सहायता के लिए दिए हैं। 

किन लोगों को और कैसे मिलेगा ऑक्सीमीटर

जो लोग कोरोना संक्रमित हैं और घर पर रहकर इलाज ले रहे हैं। ऐसे जरूरतमंद लोग ग्रुप से सम्पर्क कर सकते हैं। ग्रुप की ओर से भी ऐसे जरूरतमंद लोगों के बारे में पता किया जा रहा है। जरूरतमंद लोग अपनी आईडी ग्रुप के पास जमा कराकर ऑक्सीमीटर नि:शुल्क ले सकते हैं। इसके जरिए वे मरीज का ऑक्सीजन लेवल माप सकते हैं। मरीज के सही होने पर ऑक्सीमीटर ग्रुप के पास जमा कराना होगा, जिससे किसी अन्य की मदद की जा सके। 

पहले भी की थी भारद्वाज और जिंदगर ने मदद

कोरोना की पहली लहर में भी मानव सेवार्थ, परहितार्थ ग्रुप के सदस्यों के सहयोग से जरूरतमंदों को राशन वितरण किया गया था। उस दौरान भी कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्वाज और सांगानेर कपड़ा रंगाई-छपाई एसोसिएशन के सचिव राजेन्द्र जिंगदर ने खुले दिल से मदद की थी। भारद्वाज ने उस दौरान करीब 100 राशन किट जरूरतमंदों की सहायतार्थ ग्रुप को दी थी। राजेन्द्र जिंदगर ने भी उस दौरान सर्वाधिक करीब 228500 रुपए की सहायता की थी। इसके अलावा ग्रुप के कई सदस्यों ने भी पहली लहर में जरूरतमंदों की यथासंभव मदद की थी। 

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार