पुष्पेन्द्र भारद्वाज के हाथ...राजा हिन्दुस्तानी को मदद मिली हाथों-हाथ

 - जस्ट टुडे में खबर प्रकाशित होने के बाद कांग्रेस नेता ने राजा हिन्दुस्तानी को किया फोन, शुक्रवार को बुलाया कार्यालय और की आर्थिक मदद


जस्ट टुडे
जयपुर।
सांगानेर के 'राजा हिन्दुस्तानी' की खामोशी आखिरकार टूट गई है। उनकी खामोशी तोडऩे का नेक कार्य किया है, सांगानेर में कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्वाज ने। जस्ट टुडे में प्रकाशित राजा हिन्दुस्तानी के सेवा भाव और दर्द भरी दास्ता से प्रभावित होकर कांग्रेस नेता ने तुरन्त मदद को हाथ आगे बढ़ा दिए। जस्ट टुडे ने 'इस राजा हिन्दुस्तानी की खामोशी...सांगानेर को सोने नहीं दे रही' नामक शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया था। खबर में राजा हिन्दुस्तानी के कोरोना काल में किए जा रहे सेवा भाव के बारे में बताया गया था। वहीं उनकी आर्थिक मदद करने की भी अपील की गई थी।
जस्ट टुडे में खबर प्रकाशित होने के बाद कांग्रेस नेता पुष्पेन्द्र भारद्वाज ने स्वयं राजा हिन्दुस्तानी को गुरुवार को फोन किया था। उन्होंने कुशलक्षेम पूछी और कोरोना में सावधानी से रहने को कहा। उन्होंने शुक्रवार को राजा हिन्दुस्तानी को कार्यालय आने को भी कहा। इस पर राजा हिन्दुस्तानी कांग्रेस नेता के कार्यालय पर गए। 

मना करने पर कहा, बड़े भाई की ओर से है तोहफा

राजा हिन्दुस्तानी ने जस्ट टुडे को बताया कि कांग्रेस नेता का मेरे पास फोन आना ही बड़ी बात थी। उन्होंने बात करके मुझे जो आत्मसम्बल दिया, उससे मैं गद्गद् हो गया। मैं शुक्रवार को उनके कार्यालय पर अपनी  गाड़ी से गया था। उन्होंने मेरी गाड़ी की खूब प्रशंसा की। उन्होंने कोरोना में मेरी ओर से की जा रही सेवा भी भी जमकर तारीफ की। इसके बाद उन्होंने मुझे 5100 रुपए की आर्थिक मदद भी की। मैंने उन्हें मना भी किया, लेकिन, उन्होंने कहा कि ये बड़े भाई की तरफ से छोटे भाई के लिए तोहफा है। इसके बाद मैं भी कुछ नहीं बोल पाया। उन्होंने कहा कि कभी भी कोई काम हो, मुझसे बेहिचक कहना। आपका भाई पुष्पेन्द्र भारद्वाज आपके लिए आधी रात को भी तैयार है। राजा हिन्दुस्तानी ने कहा कि अभी तक सुना ही था कि पुष्पेन्द्र भारद्वाज दिल के नेक इनसान है, आज आंखों से देख भी लिया। 

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार