18+ वालों के वैक्सीनेशन के लिए हर विधायक से 3 करोड़ लेगी राज्य सरकार

- बुधवार शाम को केबिनेट की बैठक में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत लगाएंगे प्रस्ताव पर मुहर


जस्ट टुडे
जयपुर।
कोरोना काल में आर्थिक संकट से जूझ रही राज्य सरकार ने अब 18+ वालों के वैक्सीनेशन के लिए फण्ड का इंतजाम शुरू कर दिया है। इसके लिए सरकार ने विधायक स्थानीय क्षेत्र विकास कार्यक्रम एमएलए फण्ड का बजट वैक्सीनेशन के लिए इस्तेमाल करने की तैयारी कर ली है। इसके तहत हर विधायक के फण्ड से 3 करोड़ रुपए लिए जाएंगे। बुधवार शाम को केेबिनेट की बैठक में इस पर मुहर लग जाएगी। पिछले साल भी कोरोना के चलते विधायक फण्ड का अधिकतर पैसा कोविड से लडऩे वाले कामों में लगाया गया था। कई जगहों पर गरीबों को खाना खिलाने, अस्पतालों में वेंटिलेटर और अन्य संसाधनों के लिए विधायक फण्ड से सिफारिशें की गई थीं।

सरकार ने बजट में बढ़ाया था पौने तीन करोड़ का फण्ड

मार्च बजट में राज्य सरकार ने विधायक फण्ड को 2.25 करोड़ से बढ़ाकर 5 करोड़ करने की घोषणा की थी। यानी एक साथ पौने तीन करोड़ रुपए विधायक फण्ड बढ़ाया गया था। अब राज्य सरकार ने हर विधायक के फण्ड से 3 करोड़ रुपए वैक्सीनेशन के कार्य में लने का फैसला किया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पिछले दिनों विधायकों से अपील की थी कि वे विधायक फण्ड में से 3 करोड़ रुपए दें। मुख्यमंत्री की अपील के बाद कई विधायकों ने सिफारिशें करनी शुरू कर दी थीं, लेकिन, अब तक विधायकों ने 1-1 करोड़ के आसपास ही सिफारिशें की हैं। 

20 फीसदी होगी यह रकम

प्रदेश में 18 से 44 साल के आयु वर्ग के लोगों के दो बार वैक्सीनेशन के लिए 7 करोड़ डोज चाहिए, जिस पर सरकार ने 3 हजार करोड़ रुपए खर्च आने का अनुमान लगाया है। राजस्थान में 200 विधायक हैं। हर विधायक के फण्ड से 3 करोड़ लिए जाएंगे। इस तरह 600 रुपए सरकार जुटा लेगी। यह रकम वैक्सीनेशन के कुल खर्च की 20 फीसदी होगी।

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार