जरूरतमंदों की सेवा में फिर समर्पित हुई 'समर्पण संस्था'

- रेड अलर्ट जन अनुशासन पखवाड़े में समर्पण संस्था ने 10 जरूरतमंदों को दिया राशन 


जस्ट टुडे
जयपुर।
कोरोना की दूसरी लहर चारों ओर कहर बरपा रही है। अस्पतालों में ना बैड है, ना ऑक्सीजन। बाजारों में भी दवा का टोटा है। ऐसे में आम-आदमी त्राहिमाम्-त्राहिमाम् कर रहा है। सम्पन्न व्यक्ति तो घर में बंद रहकर भी जीवनयापन कर सकता है। लेकिन, समाज के जरूरतमंद परिवारों के सामने दो जून की रोटी का संकट पैदा हो गया है। ऐसे लोगों के लिए आशा की किरण बनकर आई है 'समर्पण संस्था।' समर्पण संस्था ऐसे लोगों की खुले दिल से यथासंभव मदद कर रही है। 

कोविड प्रोटोकॉल के तहत जरूरतमंदों की मदद

समर्पण संस्था की ओर से बुधवार को रेड अलर्ट जन अनुशासन पखवाड़े के दौरान श्री कल्याण नगर, अम्बेडकर नगर, भगवती नगर प्रथम, करतारपुरा में करीब 10 जरूरतमंद परिवार चिह्नित कर उन्हें राशन के किट भेंट किए। इस दौरान कोविड-19 प्रोटोकॉल का पूरी तरह से पालन किया गया। समर्पण संस्था के संस्थापक अध्यक्ष आर्किटेक्ट डॉ. दौलत राम माल्या ने बताया कि रेड अलर्ट जन अनुशासन में कोई भूखा नहीं रहे, इसे ध्यान में रखते हुए संस्था ने 'लोकोपकार-2' अभियान चलाकर राशन पैकेट तैयार करवाए हैं। संस्था की ओर से जरूरतमंद परिवारों को चिह्नित किया जाता है और उन्हें ये पैकेट दिए जाते हैं। इस दौरान समाज सेविका गुलाब निरंकारी व कार्यालय प्रबन्धक त्रिलोक माल्या भी उपस्थित रहे।

किट में इतना होता है राशन



इस राशन किट में 10 किलो आटा, 1 किलो चावल, 1 किलो चीनी, 500 ग्राम दाल, 1 लीटर तेल, 1 किलो नमक, 100 ग्राम चाय, 100 ग्राम मिर्च, 100 ग्राम हल्दी आदि पैक किए गए हैं। संस्था की ओर से कोरोना की पहली लहर में भी 'लोकोपकार' अभियान चलाया गया था। जिसमें 750 जरूरतमंद परिवारों को 30 चरणों में राशन किट वितरित किए गए थे।

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार

सांगानेर बाजार में पटाखे की चिंगारी कहर बनकर टूटी