मंडल अध्यक्ष और विधायक की मनमानी...सांगानेर संगठन में हो रही तनातनी

- सांगानेर भाजपा कार्यकारिणी पर शुरू हुआ बवाल नहीं ले रहा थमने का नाम

- वरिष्ठ भाजपा कार्यकर्ताओं के संग, भारतीय विचार परिवार के सदस्यों ने भी छेड़ी जंग

जस्ट टुडे
जयपुर।
सांगानेर भाजपा मंडल की घोषित हुई नई कार्यकारिणी पर दिनों-दिन तकरार बढ़ती ही जा रही है। सांगानेर भाजपा मंडल के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं के बाद अब सांगानेर के भारतीय विचार परिवार के लोग भी नई कार्यकारिणी के विरोध में आ गए हैं। विचार परिवार के लोगों का कहना है कि वरिष्ठ कार्यकर्ताओं का अपमान किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। वरिष्ठ कार्यकर्ताओं की कार्यकारिणी में अनदेखी करना भाजपा मंडल अध्यक्ष और विधायक को आगामी समय में घाटे का सौदा साबित होगा। विचार परिवार के लोगों ने आरोप लगाया कि सांगानेर मंडल में अध्यक्ष और विधायक की मनमानी की वजह से संगठन में तनातनी का माहौल बना हुआ है। उन्होंने प्रदेश संगठन से इस मामले में दखल देने का आग्रह किया है। साथ ही वरिष्ठ कार्यकर्ताओं को उनका सम्मान देने की वकालत की है। 

आज तक किसी भी मंडल में नहीं देखी ऐसी मनमानी

मैं पिछले 30 साल से भारतीय विचार परिवार का  सक्रिय कार्यकर्ता हूं। अभी तक किसी भी मंडल में इस तरह की मनमानी और तनातनी नहीं देखी है। भाजपा के कर्मठ और जुझारू कार्यकर्ताओं को दरकिनार कर ऐसे लोगों को कार्यकारिणी में पदाधिकारी बना दिया, जिन्होंने लोकसभा और विधानसभा चुनावों में विपक्षी पार्टियों का दामन थामा था। ऐसा करके भाजपा के जोशीले और सक्रिय कार्यकर्ताओं को बुरी तरह अपमानित किया गया है। भाजपा के जो कार्यकर्ता इस कार्यकारिणी का विरोध कर रहे हैं, वे बिलकुल सही हैं। वे सम्मान के लिए लड़ रहे हैं, हम उनका पूरा साथ देंगे।
- रामजी लाल सैनी, वार्ड 94, भारतीय विचार परिवार के सक्रिय सदस्य

भाजपा से उठता जा रहा है विश्वास 

सक्रिय और कर्मठ कार्यकर्ताओं का सम्मान नहीं होने की वजह से अब धीरे-धीरे भाजपा से विश्वास उठता जा रहा है। क्योंकि, जिस पार्टी में सक्रिय कार्यकर्ताओं का ही सम्मान नहीं है, वहां भारतीय विचार परिवार की क्या पूछ-परख होगी, यह विचार करने योग्य है। सक्रिय कार्यकर्ता ही हमारे लिए असली नेता है, क्योंकि, इन्होंने ही हमें भाजपा से जोड़ा है। ऐसे में हम हर कीमत पर इन जुझारू कार्यकर्ताओं का साथ देंगे। इनके सम्मान के लिए हमेशा खड़े रहेंगे, चाहे पार्टी से ही दूर क्यों ना जाना पड़े।
- राहुल शर्मा, वार्ड 88, भारतीय विचार परिवार के सक्रिय सदस्य

भाजपा के लिए नहीं अच्छे संकेत

संभवतया सांगानेर में यह पहला मौका है, जब कार्यकर्ताओं में सम्मान ना मिलने से असंतोष है। भाजपा शुरू से ही सांगानेर में मजबूत रही है। लेकिन, निकाय चुनाव में करारी हार से साफ पता चल रहा था कि संगठन में स्थिति सही नहीं है। ऐसे में संगठन में बदलाव की उम्मीद की जा रही थी। लेकिन, संगठन के हालात पहले से भी बदतर हो गए हैं। वरिष्ठ कार्यकर्ताओं की कार्यकारिणी में उपेक्षा करने से भाजपा की स्थिति कमजोर ही होगी। आगामी समय के लिए ये भाजपा के लिए हितकारी संकेत नहीं हैं।
- जुगल किशोर नामा, वार्ड 88, भारतीय विचार परिवार के सक्रिय सदस्य

समय पर चुकाएंगे हिसाब

पिछले कुछ समय से सांगानेर भाजपा में निष्ठावान कार्यकर्ताओं की अनदेखी की जा रही है। वहीं चमचे किस्म के लोगों को तवज्जों दी जा रही है। इससे शर्मनाक और क्या बात होगी कि भाजपा कार्यकारिणी में मूल कार्यकर्ताओं की जगह दूसरी पार्टियों के लोगों को लिया गया है। जब वोट मांगने की बात आती है तो फिर कर्मठ कार्यकर्ताओं को ही पूछा जाता है, वहीं जब पद बांटने की बात आती है, तो बाहरी लोगों को वरीयता दी जाती है। अब हम कथनी और करनी का फर्क समझ गए हैं। वरिष्ठ कार्यकर्ताओं का अपमान भी हमारा अपमान है। समय पर हम इसका हिसाब चुकता कर देंगे।
- सुरेश जांगिड़, वार्ड 88, भारतीय विचार परिवार के सक्रिय सदस्य 

क्या वोटर लाने की भी है क्षमता

सांगानेर भाजपा मंडल की कार्यकारिणी में जैसे नए पदाधिकारी लिए गए हैं, क्या वैसे ही मंडल अध्यक्ष और विधायक वोटर भी दूसरे संगठनों से लाने की क्षमता रखते हैं। मंडल अध्यक्ष और विधायक ने ऐसा करके ना केवल वरिष्ठ कार्यकर्ताओं का अपमान किया है बल्कि सांगानेर में भाजपा की स्थिति को कमजोर भी किया है। आगामी विधानसभा चुनावों में भाजपा को इसका बड़ा खमियाजा भुगतना पड़ेगा। भारतीय विचार परिवार किसी भी कीमत पर वरिष्ठ कार्यकर्ताओं का अपमान बर्दाश्त नहीं करेगा। इसका जवाब हम उचित समय आने पर देंगे।
 - प्रवीण दास, वार्ड 91, भारतीय विचार परिवार के सक्रिय सदस्य

पुराने कार्यकर्ता को पार्टी समझती है सिर्फ बंधुआ मजदूर

सांगानेर भाजपा मंडल की नई कार्यकारिणी में पुराने कार्यकर्ताओं को जगह नहीं दी गई है। पार्टी को चाहिए कि पुराने कार्यकर्ताओं से जबरन इस्तीफा ले लिया जाए। पार्टी में पुराने कार्यकर्ताओं को तवज्जो नहीं दी जा रही है, जब कार्य होता है तो पुराने कार्यकर्ताओं को याद किया जाता है, वहीं पद बांटने की बारी आती है तो नए लोगों को दे दिया जाता है। पार्टी पुराने कार्यकर्ताओं को बंधुआ मजदूर समझती है, इसलिए उन्हें सम्मान नहीं दिया जा रहा है। समय आने पर इसका जवाब हम सभी मिलकर देंगे।
- जितेन्द्र सैनी, वार्ड 88, भारतीय विचार परिवार के सक्रिय सदस्य

ईंट से ईंट बजाने में नहीं हटेंगे पीछे

हम किसी भी पार्टी के गुलाम नहीं है। हमारे वरिष्ठ साथियों का जहां सम्मान नहीं होगा, वहां हम भी नहीं होंगे। कर्मठ कार्यकर्ता ही पार्टी की असली जान होता है। जिन लोगों ने पार्टी को अपनी मेहनत से सींचा है, आज उन्हीं को सम्मान नहीं मिल रहा है, जो असल में दुर्भाग्य है। वरिष्ठ कार्यकर्ताओं के सम्मान के लिए यदि हमें ईंट से ईंट बजानी पड़ी तो भी पीछे नहीं हटेंगे। हमारे लिए हमारे भाई पहले हैं, पार्टी बाद में है।
- बलविंदर सिंह परमार, वार्ड 88, भारतीय विचार परिवार के सक्रिय सदस्य

नहीं मिलेगा हक तो पार्टी का नुकसान तय

सांगानेर मंडल अध्यक्ष और विधायक ने पार्टी के सक्रिय और वरिष्ठ कार्यकर्ताओं के सम्मान को जो चोट पहुंचाई है, वह बिलकुल भी स्वीकार्य नहीं है। कार्यकारिणी में सक्रिय और वरिष्ठ कार्यकर्ताओं की अनदेखी करना आगामी समय में महंगा सौदा साबित होगा। यदि वरिष्ठ कार्यकर्ताओं को उनकी ईमानदारी का पूरा हक नहीं मिलेगा तो फिर पार्टी का नुकसान के अलावा और कुछ नहीं होगा। 
- मनीष कुमावत, वार्ड 94, भारतीय विचार परिवार के सक्रिय सदस्य

कार्यकर्ताओं से दूरी यानी वोटर्स से भी बनी दूरी

मंडल अध्यक्ष, विधायक और जिलाध्यक्ष ने जितने भी पार्टी के ऊर्जावान, सक्रिय व वरिष्ठ कार्यकर्ताओं से जो दूरी बनाई है, उतनी ही दूरी उनकी वोटर्स से भी हो गई है। पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ताओं पर बाहरी लोगों को वरीयता देने से कर्मठ कार्यकर्ताओं का अपमान ही किया है। हमारे वरिष्ठ साथियों के स्वामिभान के लिए हम भी संघर्ष करेंगे। हम भी वरिष्ठ कार्यकर्ताओं के साथ कार्यकारिणी में शामिल किए गए बाहरी लोगों का पुरजोर विरोध करते हैं। यदि संगठन ने कार्यकर्ताओं की बात नहीं सुनी तो फिर आगामी समय में इसका बड़ा नुकसान पार्टी को उठाना पड़ेगा।
- आदित्य शेखावत, वार्ड 94, भारतीय विचार परिवार के सक्रिय सदस्य

मंडल अध्यक्ष को नहीं आती हीरों की परख

मैं पिछले 15 वर्ष से भाजपा से जुड़ा हुआ हूं। आज जो भ्रष्टता और धृष्टता सक्रिय और वरिष्ठ कार्यकर्ताओं के साथ की जा रही है, वह मैंने पहले कभी नहीं देखी। वरिष्ठ कार्यकर्ताओं का ऐसा अपमान बड़ा ही दुखद है। वरिष्ठ कार्यकर्ताओं की अनदेखी से साबित होता है कि मंडल अध्यक्ष को हीरों की परख करना नहीं आता है। वास्तविकता में मंडल अध्यक्ष, योग्य और नीतिकार व्यक्ति को बनाया जाता तो वह ऐसा नहीं करता। जिन कार्यकर्ताओं ने विधानसभा और लोकसभा में पार्टी का परचम लहराया हो, उन्हें दरकिनार करना समझ से परे है। पार्टी को इसका भयंकर परिणाम भुगतने के लिए तैयार रहना होगा। 
- सूरज कुमार, वार्ड 94, भारतीय विचार परिवार के सक्रिय सदस्य



Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार