मानसरोवर सब्जी मंडी...बड़ी गंदी...महामारी रोकने को गहलोत से गुहार

- मानसरोवर में घनी आबादी में स्थित है सब्जी मंडी, ना तो सोशल डिस्टेंसिंग की पालना और ना ही विक्रेता लगाते हैं मास्क 

- जगह-जगह गंदगी के ढेर, महामारी फैलने का रहता है अंदेशा

- समाज-सेवी बुलचंदानी ने मुख्यमंत्री और लोकायुक्त को लिखा पत्र


जस्ट टुडे
जयपुर।
मानसरोवर स्थित सेक्टर 11 में राजस्थान आवासन मण्डल की करोड़ों रुपए की बेशकीमती जमीन खाली पड़ी हुई है। आवासन मंडल की उदासीनता के चलते यहां पर थड़ी मार्केट सब्जी मण्डी लगने लग गई है। खास बात यह है कि इस सब्जी मंडी के आस-पास घनी आबादी है। मंडी से  हमेशा यहां पर गंदगी का साम्राज्य रहता है । ऐसे में कोरोना महामारी के इस दौर में सब्जी मंडी लोगों की सेहत पर महंगी साबित हो रही है। स्थानीय लोगों ने बताया कि सब्जी मंडी में सैंकड़ों सब्जी और फल विक्रेता हैं। ऐसे में दिनभर यहां चहल-पहल लगी रहती है। ना तो यहां सोशल डिस्टेंसिंग की पालना होती है और ना ही लोग मास्क लगाकर आते हैं। ऐसे में तरकारी के रूप में सब्जी मंडी में महामारी भी बंट रही है। समाज-सेवी जयप्रकाश बुलचंदानी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और लोकायुक्त पूर्व न्यायाधीश प्रताप कृष्ण लोहरा को पत्र लिखा है। इसमें कोरोना महामारी को फैलने से रोकने के लिए और अतिक्रमण हटाकर बाजार में भीड़भाड़ कम करने का आग्रह किया गया है। 

सड़ी-गली सब्जियों के ढेर, जानवर मारते हैं मुंह


समाज-सेवी जयप्रकाश बुलचंदानी ने बताया कि सब्जी मंडी में ज्यादातर विक्रेता मास्क नहीं लगाते हैं। गुटखे की पीक कहीं भी थूक देते हैं। कई विक्रेता धड़ल्ले से बीडी-सिगरेट के कश लगाते दिख जाएंगे। सब्जी मंडी में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना से किसी का वास्ता नहीं है। सब्जी मंडी में जगह-जगह सड़ी-गली सब्जियों का ढेर लगा रहता है। इनमें सूअर, गाय, भैंस जैसे जानवर मुंह मारते फिरते हैं। इन जानवरों के जरिए सड़ी-गली सब्जियां हर जगह बिखरी रहती है, इन पर मक्खी-मच्छर भी भिनभिनाते रहते हैं। यह स्थिति कोरोना महामारी के दौरान बड़ी ही भयावह है। इससे कोरोना महामारी की गति कई गुना बढ़ेगी। ऐेसे में सरकार को यहां सख्ती से कार्रवाई करनी चाहिए। साथ ही आवासन मंडल को अपनी जमीन तुरन्त खाली करा लेनी चाहिए। 

शाम होते ही आम हुआ जाम


जयप्रकाश ने बताया कि सब्जी मंडी में शाम के समय ज्यादा भीड़ रहती है। शाम के समय मंडी के बाहर गाडिय़ों का रेला लग जाता है। ऐसे में यहां रोज शाम को जाम की समस्या रहती है। थड़ी मार्केट सब्जी मंडी के पास से दुर्गापुरा, सांगानेर, मानसरोवर और न्यू सांगानेर रोड जाने का रास्ता है। ऐसे में यहां पर यातायात का भार बहुत अधिक रहता है। सब्जी मंडी में भी भीड़ होने से राहगीरों के लिए शाम को यहां से निकलना किसी एवरेस्ट पर चढ़ाई से कम नहीं है। ऐसे में जिम्मेदार अधिकारियों को यहां से कब्जे हटाकर जाम की समस्या से आम आदमी को निजात दिलानी चाहिए। 

आयुक्त ने डीसी विजिलेंस को दिए कार्रवाई के निर्देश


समाज-सेवी बुलचंदानी ने बताया कि उन्होंने पिछले दिनों नगर-निगम में आयुक्त को एक पत्र दिया था। उसमें लिखा हुआ था कि वार्ड 82 स्थित स्टेनी मैमोरियल पीजी कॉलेज की ओर से आम रास्ते पर लोहे के पिलर लगाकर कब्जा कर लिया गया है। निगम आयुक्त ने डीसी विजिलेंस को इस पर तुरन्त कार्यवाही करने को लिख दिया था। उम्मीद है कि जल्द ही अतिक्रमण पर कार्रवाई होगी और सड़क की चौड़ाई बढ़ जाएगी। इससे राहगीर सहित स्थानीय निवासियों को काफी फायदा होगा। 

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार