लोगों के लिए बने, 'राम'चरण बोहरा

- कोरोना काल में हैल्पलाइन के जरिए लोगों की मदद कर रहे जयपुर सांसद रामचरण बोहरा


जस्ट टुडे
जयपुर।
कोरोना की दूसरी लहर ने फिजा में जहर घोल रखा है। विशेषज्ञ भी इस लहर से बेचैन हैं। इलाज के अभाव में लोग तड़प रहे हैं। ऐसे में कई जनप्रतिनिधियों ने जनता की सहायता का बीड़ा उठाया है। ये जनप्रतिनिधि अपनी तरफ से हरसंभव कोशिश कर रहे हैं, जिससे जनता को उचित इलाज मिल सके, जरूरतमंदों को भोजन सहित आवश्यक सुविधाएं मिल सकें। इन जनप्रतिनिधियों के साथ इनके कार्यकर्ता भी विभिन्न क्षेत्रों में अलर्ट हैं। कोरोना काल में जनता की कुछ ऐसी ही सेवा करने को प्रयासरत हैं, जयपुर सांसद रामचरण बोहरा सांसद बोहरा ने पांच मोबाइल नम्बर के जरिए 24 घंटे की हैल्पलाइन सेवा जारी की है। इसके जरिए वे जनता की यथासंभव मदद कर रहे हैं। 

कोरोना पीडि़तों की आ रही ज्यादा कॉल

सांसद बोहरा की हेल्पलाइन के प्रभारी एडवोकेट खेमचंद शर्मा ने जस्ट टुडे को बताया कि कार्यकर्ता फोन पर मदद पाने वालों की बात को धैर्यपूर्वक सुन रहे हैं। उनकी यथासंभव तुरन्त मदद भी की जा रही है। हैल्पलाइन पर ज्यादातर कोरोना मरीजों के लिए मदद की गुहार लगाई जा रही है। इनमें किसी को वेंटीलेटर तो किसी को आईसीयू वार्ड तो किसी को ऑक्सीजन, किसी को अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत थी। सांसद बोहरा ने तुरन्त सभी की समस्या का निदान कराया। 

5 दिन में 600 लोगों ने पाई मदद

एडवोकेट शर्मा ने बताया कि पिछले 5 दिनों में करीब 600 लोगों को सहायता उपलब्ध करवा दी गई है। उन्होंने बताया कि कोरोना मरीज, उनके परिजन या अन्य कोई जरूरतमंद 982910991, 9462042587, 9314539398, 9314964609, 8955847586 हैल्पलाइन नम्बर पर कभी भी फोन कर सकता है। सांसद बोहरा यथासंभव उनकी मदद करेंगे। उन्होंने बताया कि सांसद बोहरा रोजाना हैल्पलाइन सदस्यों से सम्पर्क रखते हैं। उन्होंने बताया कि हैल्पलाइन पर हैल्प पाकर पीडि़त परिवारों को सुकून मिल रहा है। उन्हें लग रहा है कि उनका भी कोई अपना है, जो इस मुश्किल दौर में उनके साथ खड़ा है। 

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार