भक्त और भगवान के बीच अंधेरा बन रहा बाधा

- सांगा बाबा और त्रिपोलिया हनुमान मंदिर के पास रोडलाइट खराब होने से दिन ढलते ही छा जाता है अंधेरा, भक्तों को हो रही परेशानी



जस्ट टुडे
जयपुर।
जिनके नाम से सांगानेर का नामकरण हुआ, वर्तमान में उन्हीं का मन्दिर परिसर अंधेरे में है। आप सही समझे, सांगानेर के आराध्य सांगा बाबा मन्दिर और उन्हीं के पास स्थित त्रिपोलिया हनुमान मन्दिर परिसर के आस-पास अंधेरा रहता है। इन दोनों मन्दिरों में रोजाना सैकड़ों भक्त दर्शन करते आते हैं, दिन ढलते ही इन दोनों मंदिरों के आस-पास अंधेरा हो जाता है, जिससे दर्शनार्थियों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। स्थानीय निवासियों ने बताया कि कई बार नगर-निगम के अधिकारियों को इस बारे में बताया, लेकिन, हालात जस के तस हैं। 

दो माह से खराब है रोडलाइट

दरअसल, सांगा बाबा मन्दिर और त्रिपोलिया हनुमान मंदिर के पास जो रोडलाइट लगी हुईं है, वे पिछले दो माह से खराब हैं। ऐसे में दिन ढलते ही यहां पर अंधेरे का साम्राज्य हो जाता है। दोनों ही मन्दिरों में दर्शनों को आने वाले लोगों को परेशानी होती है। अंधेरे का राज्य होने के कारण कई बार हादसे भी हो चुके हैं। 

दोनों मन्दिर सांगानेर की पहचान

 व्यापारी पुरुषोत्तम बच्चानी ने बताया कि त्रिपोलिया हनुमान मंदिर में मंगलवार और शनिवार को हजारों भक्त दर्शनों को आते हैं। मैं भी हमेशा जाता हूं, लेकिन, अंधेरा होने से काफी परेशानी होती है। बच्चानी ने बताया कि दोनों ही मंन्दिर सांगानेर की ऐतिहासिक विरासत हैं, ऐसे में नगर-निगम को यहां की रोडलाइट तुरन्त सही करानी चाहिए, जिससे भक्तों को भगवान तक पहुंचने में कोई परेशानी नहीं आए।

कई हो चुके हादसे...प्रशासन मौन

स्थानीय निवासी और सेवक गुरु दरबार हरीश रेलवानी ने बताया कि करीब दो महीने से रोडलाइट खराब है। कई बार हादसे भी हो चुके हैं, कई बार शिकायत की, लेकिन सुनवाई नहीं हो रही है। मन्दिर जाने वाले भक्त सुरेश शर्मा ने बताया कि सड़क पर अंधेरा होने से कई बार बुजुर्ग व्यक्ति गिरकर चोटिल हो चुके हैं। कई बार निगम के अधिकारियों को इस बारे में बताया, लेकिन प्रशासन मौन है। 


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार