सांगानेर में चोरों को नहीं पुलिस का डर, ढहा रहे कहर

- सांगानेर मुख्य बाजार और आस-पास के क्षेत्र में बढ़ रहीं चोरी की वारदात


- खटीकों की ढाल स्थित पुलिस चौकी के पास से चार गाडिय़ों की बैटरी चोरी


- मालपुरा गेट थाना पुलिस नींद में, चोरों की हुई मौज


  
जस्ट टुडे
जयपुर। सांगानेर मुख्य बाजार और आस-पास के क्षेत्र में शायद चोर, पुलिस के साथ आंखमिचौली का खेल खेल रहे हैं। तभी तो चोर कभी डिप्टी ऑफिस के सामने से बाइक चुराते हैं तो कभी पुलिस चौकी के पास से वाहनों की बैटरी उड़ा रहे हैं। पुलिस के सामने से एक के बाद एक हो रहीं चोरी की वारदातें तो कुछ ऐसा ही इशारा कर रही हैं। इन वारदातों ने जहां आम लोग और व्यापारियों के मन में दहशत पैदा कर दी है, वहीं मालपुरा गेट थाना पुलिस की कार्यप्रणाली पर भी प्रश्नचिह्न खड़ा कर दिया है। स्थानीय व्यापारी और लोगों का कहना है कि पुलिस नींद में है और चोर मौज कर रहे हैं। 


दहशत में आमजन और व्यापारी 



सांगानेर में खटीकों की ढाल स्थित रामदेहरी पुलिस चौकी के पास से चोर 4 मैजिक गाडिय़ों (आरजे 14 पीबी 0365, 3115, 0604, 9902) की बैटरी चोरी कर ले गए। इन गाडिय़ों में से दो गाडिय़ां सांगानेर व्यापार महासंघ के अध्यक्ष शंकर आकड़ की हैं, दो अन्य व्यापारी की है। ऐसे में सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि चोरों के हौसले कितने बुलंद हैं। जब चोर पुलिस चौकी के सामने से ही चोरी करने से नहीं डर रहे तो फिर आमजन स्वयं को कैसे सुरक्षित महसूस करेगा।   


20 दिन बाद भी पुलिस खाली हाथ

अभी 20 दिन पहले सांगा सर्किल के पास स्थित डिप्टी ऑफिस के सामने से चोर दिनदहाड़े बाइक चोरी कर ले गए। मालपुरा गेट थाना पुलिस अभी तक ना चोरी पकड़ सकी है और ना ही बाइक को बरामद कर सकी है।


पुलिस बोली, नाबालिग पर नहीं कर सकते कार्रवाई



पुलिस चौकी के पास से चोर 4 मैजिक गाडिय़ों की बैटरी निकालकर ले गए। इनमें से दो गाडिय़ां मेरी हैं। हमने पुलिस को एक चोर पकड़कर भी दिया। पुलिस ने कहा कि यह नाबालिग है, इस पर कोई कार्रवाई नहीं कर सकते हैं। 
- शंकर आंकड़, अध्यक्ष, सांगानेर व्यापार महासंघ


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार