सांगानेर की ये छोरियां छोरो से कम नाय

- अंशिता ने 10 वीं और सलोनी ने 12 वीं बोर्ड में हासिल किए अच्छे अंक, माता-पिता को दिया श्रेय



जस्ट टुडे
जयपुर। 'म्हारी छोरियां छोरो से कम हैं के'...हिन्दी फिल्म दंगल का यह मशहूर डायलॉग बोर्ड परीक्षा में फिट बैठता है। बोर्ड परीक्षा में लड़कियों ने लड़कों को पीछे छोड़ दिया है। लड़कियां अव्वल आई हैं। कुछ ऐसी ही होनहार लड़कियां सांगानेर की भी हैं, जिन्होंने बोर्ड परीक्षा में अव्वल दर्जा पाकर ना केवल माता-पिता का नाम रोशन किया है बल्कि कन्या भ्रूण हत्या करने वाले समाज के सुसभ्य वर्ग को भी आईना दिखाया है। सांगानेर की सलोनी शर्मा और अंशिता खण्डेलवाल ने। इन दोनों होनहार बच्चियों पर अभिभावक और शिक्षकों को गर्व है। 


आईएएस बनने की इच्छा



सांगानेर में सुनारों की गली निवासी सलोनी शर्मा ने 12 वीं बोर्ड कला संकाय में 91.4 फीसदी अंक पाए हैं। अरविंद विद्या मंदिर की छात्रा सलोनी ने अपनी सफलता का श्रेय अपने पिता रामप्रकाश शर्मा, माता बीना शर्मा के साथ शिक्षकों को भी दिया है। सलोनी ने बताया कि उसने कठिन मेहनत की, माता-पिता ने उन्हें पढ़ाई में पूरा सहयोग दिया। परीक्षा के दौराना मां ने पूरा ख्याल रखा, जिसके चलते मैं यह मुकाम हासिल कर पाई। सलोनी की इच्छा आईएएस बनने की है। 


अंशिता के 10 वीं में 98.5 फीसदी अंक



माहेश्वरी गल्र्स पब्लिक स्कूल की छात्रा अंशिता खण्डेलवाल ने सीबीएसई की 10 वीं परीक्षा में 98.5 प्रतिशत अंक प्राप्त किए हैं। अंशिता ने संस्कृत और गणित में 100 में से 100 अंक प्राप्त किए हैं। अंशिता ने अपनी इस सफलता का श्रेय पिता योगेन्द्र खण्डेलवाल और माता प्रियंका खण्डेलवाल को दिया है। अंशिता ने बताया कि माता-पिता के भरपूर सहयोग और मार्गदर्शन के चलते ही वे सफलता के सोपान चढ़ पाई। 


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार

सांगानेर बाजार में पटाखे की चिंगारी कहर बनकर टूटी