कोरोना से सोशल के बाद अब दिलों में डिस्टेंस 

- वैशाली नगर स्थित करनी नगर के निवासियों ने पार्क के गेट पर जड़ा ताला, सीढिय़ां तोड़कर सरकारी सम्पत्ति को पहुंचाया नुकसान

- प्रताप नगर नागरिक विकास समिति ने नगर-निगम में की शिकायत


जस्ट टुडे
जयपुर। कोरोना महामारी ने सोशल डिस्टेंसिंग तो बना ही दी, अब लॉकडाउन खुलने के बाद हार्ट डिस्टेंसिंग यानी दिलों में दूरियां बनाना भी शुरू कर दिया है। कुछ ऐसा ही मामला सामने आया है वैशाली नगर स्थित प्रताप नगर कॉलोनी में। इन दिलों की दूरियों की जड़ बना है एक पार्क। 


कोरोना का बनाया बहाना, पार्क के गेट पर जड़ा ताला


दरअसल, इस पार्क का एक गेट प्रतापनगर की तरफ है तो दूसरा गेट पड़ोसी कॉलोनी के 5 करनी नगर में। इस पार्क में लॉकडाउन से पहले तक सभी कॉलोनियों के लोग घूमते थे, बच्चे आराम से खेलते थे। लेकिन, लॉकडाउन खुलने के बाद के 5 करनी नगर के कुछ निवासियों ने प्रतापनगर कॉलोनी की तरफ वाले पार्क के गेट पर ताला जड़ दिया है, साथ ही गेट के पास बनी हुईं सीढिय़ां भी तोड़ दी हैं। इस बारे में इनका कहना है कि कोरोना महामारी के चलते प्रतापनगर कॉलोनी का गेट बंद किया है, जिससे वहां के लोग इस पार्क में ना आ सकें और भीड़ कम हो। 

सरकारी सम्पत्ति को नुकसान


सीढिय़ां तोडऩे के बाद उस जगह पर करीब 7 फीट गहरा गड्ढ़ा हो गया है।

करनी नगर के जिन लोगों ने पार्क पर ताला जड़ा है और उसकी सीढिय़ां तोड़ी है, वह विधि सम्मत नहीं है। क्योंकि, पार्क सार्वजनिक है, सरकारी सम्पत्ति है। ऐसा करने वालों के खिलाफ सरकारी सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने का मामला बनता है।

नगर निगम में की शिकायत, एफआईआर की तैयारी

 प्रताप नगर नागरिक विकास समिति ने इसकी शिकायत पत्र के जरिए डीसी सर्तकता, नगर निगम और गार्डन डीसी, नगर निगम को कर दी है। सूत्रों का कहना है कि इन्होंने भी इस मामले पर नाराजगी जाहिर की है। इनकी ओर से सरकारी सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों के खिलाफ एफआईआर करवाने की तैयारी की जा रही है।


बंटकर नहीं जरूरत है मिलकर रहने की

कॉलोनी के निवासी पार्क में घूमते थे, सामूहिक योग करते थे। पार्क के गेट पर ताला लगाने का कार्य कर उन्होंने लोगों को बांटने की कोशिश की है जिसे हम कामयाब नहीं होने देंगे। देश मे जिस प्रकार की स्थिति बन रही है इसमें मिलजुल कर समस्या से निपटने की जरूरत है न कि टुकड़ों में बंटकर अपनी ताकत कम करनी चाहिए।
- तरुण भारत वधवा, सचिव, प्रताप नगर नागरिक विकास समिति

सार्वजनिक रास्ते को बंद करना अनुचित


एक तरफ सरकार एवं प्रशासन वाक एवं योग के द्वारा फिटनेस व इम्युनिटी बढ़ाने पर जोर दे रही है दूसरी तरफ इस प्रकार गैरकानूनी रूप से पार्क में लोगों को जाने से रोकने की कोशिश की जा रही है। सभी पार्क्स को सरकार द्वारा खोल दिया गया है, ऐसे में इस प्रकार सार्वजनिक रास्ते  को बंद करना अनुचित है। 
- वीरेंद्र सिंह शेखावत, निवासी, प्रताप नगर कॉलोनी


विधि सम्मत नहीं है यह कार्य

पार्क प्रवेश द्वार को बंद करके सीढिय़ां तोडऩा सीधे-सीधे सरकारी सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाया गया है। ऐसा कृत्य विधि सम्मत नहीं है, साथ ही इस कार्य से नागरिकों के मौलिक अधिकारों का हनन भी हुआ है। निगम एवं सरकार को चाहिए कि इस प्रकार के असामाजिक तत्वों को नियंत्रित कर उचित कार्यवाही की जाए।
- एडवोकेट रामरतन शर्मा, निवासी, प्रताप नगर कॉलोनी


7 फीट का हुआ गड्ढ़ा, गिरने पर कौन जिम्मेदार

सार्वजनिक सम्पत्ति को इस प्रकार नुकसान पहुंचाना गलत है एवं हम इस प्रकार के कृत्य का विरोध करते हैं। सीढिय़ों को तोडऩे के बाद उसमें करीब 7 फीट का गड्ढ़ा हो गया है, यदि इसमें कोई इनसान या फिर जानवर गिर जाता है, तो उसका जिम्मेदार कौन होगा।
- रतनलाल जैन, निवासी, प्रताप नगर कॉलोनी


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार