समर्पण संस्था दूर कर रही मजदूरों की मजबूरी

हजारों किलोमीटर पैदल चलकर अपने घर जा रहे 17 प्रवासी श्रमिकों को दिलाई सहायता


जस्ट टुडे
जयपुर। प्रतापनगर स्थित समर्पण संस्था लॉकडाउन से ही जरूरतमंदों की मदद के लिए समर्पित है। संस्था की ओर से अब तक 30 चरणों में करीब 750 जरूरतमंदों की सहायता की जा चुकी है। चूंकि, अब प्रवासी श्रमिक देश के विभिन्न हिस्सों से पैदल ही आ रहे हैं। कई श्रमिक तो भूख प्यास से असमय ही काल का ग्रास बन चुके हैं। ऐसे में समर्पण संस्था ने अब प्रवासी श्रमिकों की पीड़ा को देखते हुए उनकी ओर भी मदद को हाथ बढ़ाए हैं। 

17 प्रवासी श्रमिकों को दिलाया राशन


समर्पण संस्था के अध्यक्ष डॉ. दौलतराम माल्या ने बताया कि दिल्ली से पलायन कर श्रमिक पैदल ही मध्यप्रदेश जाने के लिए निकल गए हैं। शुक्रवार को ये श्रमिक हरियाणा के झज्जर जिले में पहुंचे, वहां संस्था की ओर से करीब 17 प्रवासी श्रमिकों को उनकी जरूरत का सामान वहीं से दिलवाया गया। इसके लिए संस्था ने करीब 1207 रुपए पेटीएम से भुगतान किए। इस सेवा कार्य में स्थानीय निवासी विकास वैरागी का सहयोग रहा। 

जयपुर में इन जगहों पर भी की मदद


जयपुर के बजाज नगर निवासी सन्नी बैरवा ने दो जरूरतमंद मजदूर परिवारों को वहीं से 620 का राशन दिलवाकर पेटीएम से भुगतान किया। सिरसी रोड पर शहर से दूर एक कन्स्ट्रक्शन साइट पर फंसे 2 जरूरतमंद परिवारों को वहीं से 610 का राशन दिलवाकर पेटीएम से भुगतान किया गया। अम्बेडकर नगर इमली वाला फाटक से लता निरंकारी के फोन पर दो जरूरतमंद परिवारों को 600 का राशन दिलवाकर भुगतान पेटीएम से किया।

दमन में भी दिलाई सहायता

इससे पहले भी संस्था द्वारा लॉकडाउन में देश में दूर फंसे प्रवासी जरूरतमंद कामगारों को पेटीएम से भुगतान करके राशन दिलाया जा चुका है। इसके तहत केन्द्र शासित प्रदेश दमन द्वीव में फंसे ऑटो चालक सहित अलग-अलग जगहों पर 15 परिवारों की मदद की गई।


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार