पेयजल के लिए सांगानेर विधानसभा को 25 लाख मंजूर

सिर्फ जस्ट टुडे


- मुख्यमंत्री ने प्रदेश की 200 विधानसभाओं के लिए मंजूर किए 50 करोड़ रुपए

- विधायकों की अनुशंसा पर हर विधानसभा क्षेत्र में हो सकेंगे 25 लाख रुपए तक के पेयजल कार्य


जस्ट टुडे
जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश की 200 विधानसभाओं के लिए पेयजल आपूर्ति के लिए 50 करोड़ के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। ऐसे में अब प्रत्येक विधायक अपनी विधानसभा में 25 लाख रुपए तक के पेयजल आपूर्ति सम्बंधी कार्य करा सकेगा। जलदाय विभाग के अतिरिक्त मुख्य अभियंता इस सम्बंध में तत्काल स्वीकृति जारी करने के लिए अधिकृत होंगे। 


यह कार्य करा सकेंगे विधायक


विज्ञापन : 700 रुपए में 100 कॉटन मास्क खरीदें। मो. 9414209878

इस राशि से प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में हैण्डपम्प ड्रिल कराने, सौर ऊर्जा संचालित बोरवैल, पम्प मशीनरी बदलने के कार्य, सूख चुके ट्यूबवैल के स्थान पर नए ट्यूबवैल, पुरानी एवं जर्जर पाइपलाइन बदलने तथा इनके विस्तार के काम किए जा सकेंगे।  

सांगानेर विधानसभा में भी पेयजल समस्या


विज्ञापन

प्रत्येक साल गर्मी का मौसम आते ही सांगानेर विधानसभा के कई क्षेत्रों में पेयजल का गंभीर संकट पैदा हो जाता है। ऐसे में कई कॉलोनियों के लोग तो पैसे देकर निजी टैंकर मंगवाने को मजबूर रहते हैं। ऐसे में विधायक अशोक लाहोटी क्षेत्र की प्राथमिकताओं के आधार पर जनता की पेयजल सम्बंधी समस्याओं को बेहतर सुलझा सकेंगे। सांगानेर विधानसभा क्षेत्र में कई जगह बोरिंग और हैण्डपम्प सूख चुके हैं, कहीं पर पाइप लाइन जर्जर है तो कहीं पर पेयजल लाइन ही नहीं पहुंची है। ऐेसे में अब विधायक अब इन कार्यों को आसानी से करा सकेंगे।

जनता को राहत दिला सकेंगे विधायक

इन दिनों गर्मी के कारण पूरे प्रदेश में पेयजल की मांग बढ़ी है। ऐसे में विधायक पेयजल सम्बंधी आवश्यकताओं को लेकर उनके पास आने वाले अपने विधानसभा क्षेत्र के लोगों को राहत दिला सकें, इसके लिए मुख्यमंत्री ने यह मंजूरी दी है। 13 मई को हुई वीडियो कॉन्फ्रेंस में विधायकों ने गहलोत से अपने-अपनेे विधानसभा क्षेत्रों में पेयजल की सुविधा के लिए नए कार्य स्वीकृत करने का अनुरोध किया था।  


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार