गर्मी की मार फिर भी इसलिए कम हो रहे बीमार

- लॉकडाउन के चलते उल्टी, दस्त, पेट दर्द, डिहाइड्रेशन के कम हुए मरीज

- सांगानेर सीएचसी में भी 75 फीसदी से ज्यादा घटे मौसमी बीमारियों के मरीज  



विज्ञापन

जस्ट टुडे

जयपुर। कोरोना वायरस के चलते उपजे लॉकडाउन में आर्थिक गतिविधियां ठप हो गईं, बेरोजगार होने से मजदूर 
भी पलायन को मजबूर हो गए। यह लॉकडाउन का दुखद पहलू है तो वहीं इसका एक सुखद पहलू भी सामने आया है। लॉकडाउन की वजह से मौसमी बीमारियों के मरीजों की संख्या काफी घट गई है। हर साल गर्मियों में उल्टी, दस्त, पेट दर्द, डिहाइड्रेशन, चर्म रोग, जुकाम और बुखार के मरीजों की संख्या बढ़ती थी। सांगानेर सीएचसी के आंकड़ों की मानें तो लॉकडाउन के चलते भीषण गर्मी में भी इस बार ऐसे मरीजों की संख्या में करीब 75 फीसदी से भी अधिक कमी आई है। 

क्या है वजह


विज्ञापन: 700 रुपए में 100 कॉटन मास्क खरीदें। मो. 9414209878

कोरोना के चलते पूरे देश में करीब दो महीने से लॉकडाउन लगा हुुआ है। ऐसे में लोगों का समय घर पर ही व्यतीत हो रहा है। चूंकि, इससे पहले के समय को देखें तो लोग गर्मियों में भी परिवार के साथ बाहर निकलते थे। पसीने में ठण्डा पानी, बाहर का खाना, चाट-पकौड़ी आदि का भरपूर लुत्फ उठाते थे। ऐसे में वे बीमार भी ज्यादा होते थे। लेकिन, लॉकडाउन की वजह से यह सब बंद है। लोग भी घरों में ही हैं। ऐसे में हर साल गर्मियों में होने वाली मौसमी बीमारियां अब तक उनसे कोसों दूर हैं।

पहले आते थे रोज 1000 मरीज, अब सिर्फ 250 


सांगानेर सीएचसी प्रभारी डॉ. देश दीपक अरोड़ा ने बताया कि लॉकडाउन की वजह से फिलहाल रोजाना करीब 250 मरीज ही दिखाने आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि इनमें भी ज्यादातर डायबिटीज और बीपी मरीज हैं। करीब 5 फीसदी मरीज जुकाम, बुखार और दाद, खाज के हैं। डायबिटीज और बीपी के मरीज तो सालभर ही रहते हैं। उन्होंने बताया कि खास बात यह है कि अभी तक उल्टी, दस्त, पेट दर्द, डिहाइड्रेशन के ज्यादा मरीज नहीं आ रहे हैं। लॉकडाउन से पहले की गर्मियों को देखें तो ऐसे मरीजों की तादाद बढ़ जाती थी। उस समय सीएचसी पर रोजाना करीब 1000 मरीज आते थे। इनमें ज्यादातर उल्टी, दस्त, पेट दर्द, डिहाइड्रेशन के ही मरीज होते थे। लेकिन, लॉकडाउन की वजह से लोग अब घरों से नहीं निकल रहे हैं, ऐसे में वे बीमार भी नहीं हो रहे हैं।


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार