आंगनबाड़ी केन्द्रों में बंटा गेहूं-दाल...तंदुरुस्त होंगे मां और लाल

- लॉकडाउन के चलते बच्चों, गर्भवती और धात्री महिला को अक्षय पात्र की ओर से नहीं मिल सका पोषाहार

- महिला बाल विकास विभाग ने की पहल...मई माह का राशन लाभार्थियों को बांटा

- सांगानेर क्षेत्र के 13 केन्द्रों पर करीब 550 लोग हुए लाभान्वित



जस्ट टुडे

जयपुर। महिला बाल विकास विभाग की ओर से सांगानेर के लाभार्थी बच्चों को गुरुवार को राशन सामग्री बांटी गई। सांगानेर स्थित 13 आंगनबाड़ी केन्द्रों के जरिए करीब 550 लाभार्थी बच्चों को राशन वितरित किया गया। यह राशन सामग्री मई माह की उन लाभार्थी बच्चों को वितरित की गई है, जिन्होंने जनवरी-फरवरी में आधार कार्ड के जरिए पंजीकरण करवाया था। 

इन केन्द्रों पर बांटा गया राशन


सांगानेर 1, सांगानेर 2, सांगानेर 7, सांगानेर 8, सांगानेर 9, सांगानेर 10, कुशल नगर, महावीर नगर, रामको की ढाणी, बावड़ी का बास, बाजवी तलाई, ढाणी कुमावतान और कृष्णा विहार स्थित आंगनबाड़ी केन्द्रों पर गुरुवार को मई माह का राशन वितरित किया गया। 

केन्द्र 10 पर 49 लाभार्थियों को बांटा राशन


सांगानेर में छीपों का मोहल्ला स्थित आंगनबाड़ी केन्द्र 10 की कार्यकर्ता नवरत्न छीपा ने बताया कि उन्होंने करीब 49 लाभार्थी बच्चों को राशन सामग्री बांटी। इसमें दो किलो गेहूं और एक किलो चने की दाल थी। वहीं गर्भवती और धात्री महिलाओं (ऐसी महिलाएं जिनका बच्चा 6 माह से कम का हो) को तीन किलो गेहूं और एक किलो चने की दाल बांटी गई। 

इसलिए बांटा गया राशन


अक्षय पात्र फाउण्डेशन के जरिए आंगनबाड़ी केन्द्रों पर 3 वर्ष से 6 वर्ष तक के बच्चों, गर्भवती और धात्री महिलाओं को रोजाना पोषाहार आता था। लेकिन, कोरोना महामारी के चलते अक्षय पात्र फाउण्डेशन की ओर से मार्च और अप्रेल में इन सभी को पोषाहार वितरित नहीं हो पाया। ऐसे में महिला बाल विकास विभाग ने इन सभी को मई माह का राशन अपनी ओर से वितरित किया है। महिला बाल विकास विभाग की माने तो अब इन सभी को प्रत्येक माह राशन दिया जाएगा। जून का राशन भी आंगनबाड़ी केन्द्रों के जरिए करीब 21 या फिर 22 जून को बांटा जाएगा। 


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार