30 का दम...समर्पण बनी जरूरतमंदों की हमदम

समर्पण संस्था ने लॉक डाउन में लोकोपकार अभियान चलाकर 30 चरणों में जरूरतमंदों को बांटा राशन 

जस्ट टुडे
जयपुर। यूं तो समर्पण संस्था जरूरतमंदों की मदद पिछले 10 वर्षों से अनवरत कर रही है। लेकिन, कोरोना महामारी से उपजे लॉकडाउन में समर्पण संस्था हर कदम पर जरूरतमंदों की हमदम बनी। लॉकडाउन के दौरान समर्पण संस्था की ओर से 'लोकोपकार अभियान' चलाया गया। इसमें कुल 30 चरणों में 750 जरूरतमंद परिवारों को राशन किट वितरित किए गए।



अभियान में कुल 75 दानदाताओं ने सहयोग राशि भेंट की। सबसे अधिक सहयोग राशि एकता नवनिर्माण ट्रस्ट की ओर से करीब 25000 रुपए दिए गए। 


राशन किट में यह दिया गया


राशन किट वितरण प्रताप नगर, सांगानेर के सभी सेक्टर्स के साथ ही सन्नी नगर, सावित्री विहार, शिक्षा सागर कॉलोनी, सीतापुरा औद्योगिक क्षेत्र, शान्ति विहार, बम्बाला, वाटिका रोड़, गोविन्दपुरा, खोखावास, श्री कल्याण नगर करतारपुरा, बाल नगर, बदरवास आदि कॉलोनियों में किया गया। राशन किट में 5 किलो आटा, 1 किलो चावल, आधा किलो दाल, आधा लीटर तेल, 1 किलो नमक, 100 ग्राम मिर्च, 50 ग्राम हल्दी आदि के पैकेट दिए गए।


321 भोजन पैकेट भी बांटे


लॉकडाउन की शुरुआत में संरक्षक रूप नारायण यादव, राजेश कुमार बैरवा व सुमित्रा पाल के सहयोग से 321 भोजन के पैकेट भी संस्था की ओर से जरूरतमंदों को वितरित किए गए। साथ ही दमनद्वीव में फंसे प्रवासी कामगार सहित विभिन्न जगहों पर करीब 15 जरूरतमंदों को भी पेटीएम से भुगतान करके राशन दिलाया गया। 

सोशल डिस्टेंसिंग का दिया संदेश


संस्था की ओर से राशन वितरण में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया। साथ ही मास्क लगाने और बार-बार हाथ धोने सहित जरूरी जानकारी भी नियमित रूप से दी गईं। जरूरतमंदों की मदद के साथ-साथ संस्था ने अपने कार्यालय पर सफाई कर्मचारी व समाचार पत्र वितरक का शॉल पहनाकर अभिनन्दन भी किया।

समाजसेवियों को भी उपलब्ध कराए किट

बदरवास के सामाजसेवी अर्जुन राम उज्जैनिया व कलाकार कॉलोनी की समाजसेविका लक्ष्मी सपेरा को भी जरूरतमंदों में बांटने के लिए संस्था ने राशन किट उपलब्ध करवाए।
 
इन्होंने संभाली किट वितरण की जिम्मेदारी


विज्ञापन

राशन किट वितरण में समर्पण संस्था के संस्थापक अध्यक्ष आर्किटेक्ट डॉ. दौलत राम माल्या के साथ कोषाध्यक्ष राम अवतार नागरवाल, प्रवक्ता राम लाल 'रोशन', संयुक्त सचिव बी. एल. मेहरडा, एजुकेशनल एम्बेसेडर राज कुमार भारद्वाज व डॉ. सोनू छाबड़ा, संरक्षक राजेश कुमार बैरवा, संरक्षक सुमित्रा पाल आदि ने अपनी सेवाएं दीं।

संवेदनशील होना अच्छे नागरिक की पहचान


संकट की घड़ी में समाज व देश के प्रति संवेदनशील होना ही एक अच्छे इंसान व नागरिक की पहचान है। हमारा जीवन भी अर्थपूर्ण तभी बनता है, जब हम जरूरतमंद व पीडि़त व्यक्ति की समर्पित होकर सेवा करते हैं। 
- डॉ. दौलत राम माल्या, संस्थापक अध्यक्ष समर्पण संस्था


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार