सांगानेर अब अवैध इमारतों का हब

शहर के नामी-गिरामी बिल्डर्स की पसंदीदा जगहों में अब सांगानेर अव्वल


जस्ट टुडे
जयपुर। विश्वभर में अपनी छपाई के लिए मशहूर सांगानेर अब अवैध बहुमंजिला कॉमर्शियल और आवासीय इमारत बनाने का हब बनता जा रहा है। शहर के नामी-गिरामी बिल्डर्स की पसंदीदा जगहों में अब सांगानेर अव्वल है। विशेषज्ञों के मुताबिक सांगानेर में शहर के अन्य क्षेत्रों के बजाय जमीनों के दाम कम हैं, वहीं यहां पर भीड़-भाड़ भी अन्य जगहों के मुकाबले अपेक्षाकृत कम है। ऐसे में इस जगह पर बनाए गए कॉमर्शियल और आवासीय बहुमंजिला इमारतों के दाम हर किसी की जेब के मुफीद होते हैं और वे आसानी से बिक जाते हैं। इसलिए सांगानेर बिल्डर्स की पसंदीदा जगहों में टॉप मोस्ट पर है। तेजी से विकसित हो रहे सांगानेर में कोचिंग सेंटरों की भी भरमार होने लगी है। इसके चलते घरों को हॉस्टल में तब्दील कर दिया गया है और इससे अवैध कॉमर्शियल गतिविधियां भी संचालित होने लगी हैं।


मुनाफे का फेर, अवैध का खेल
विशेषज्ञों का कहना है कि यदि बिल्डर्स नियम-कायदों के अनुसार बहुमंजिला कॉमर्शियल और आवासीय इमारत बनाएं तो उनको मुनाफा नहीं के बराबर होगा। ऐसे में अपना मुनाफा बढ़ाने के फेर में वे बहुमंजिला इमारतें बनाने में सारे नियम-कायदों को ताक पर रख रहे हैं। बिल्डर्स अपना मुनाफा बढ़ाने के लिए इमारतों में नियम कायदों के विपरीत अवैध इमारत बना रहे हैं। सैट बैक भी नहीं छोड़ रहे हैं। कई इमारतों में तो पार्किंग सुविधा ही नहीं है। 
अवैध इमारत के इस खेल में बिल्डर्स का पूरा साथ जेडीए अफसर देते हैं। जेडीए अफसरों की मिलीभगत के चलते बिल्डर्स बिना खौफ  के अवैध बहुमंजिला इमारतें खड़ी कर रहे हैं। जानकारों का कहना है कि अवैध बहुमंजिला इमारतें बनाने वाले बिल्डर्स अपने मुनाफे में से एक तय हिस्सा दलालों के मार्फत अफसरों को भी 'मिठाई ' के नाम पर देते हैं। 'मिठाई ' पाने के बाद बहुमंजिला अवैध इमारत जेडीए अफसर की आंखों से तत्काल ओझल हो जाती है।
 
खर्च में जुडऩे लगी 'मिठाई '
जानकारों का कहना है कि अफसरों को अब 'मिठाई ' का इतना चस्का लग चुका है कि कहीं पर भी बिल्डिंग बन रही हो, वे बिना  'मिठाई ' खाए वहां से नहीं जाते हैं। जो लोग इनको  'मिठाई ' खिलाने से मना कर देते हैं, वे उनकी इमारतों में नियम-कायदों का पेंच फंसाकर बुलडोजर चलवा देते हैं। ऐसे में अब बिल्डिंग बनाने वाला अपनी लागत में जेडीए अफसरों की  'मिठाई ' का खर्च भी जोड़कर चलता है।


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार

सांगानेर बाजार में पटाखे की चिंगारी कहर बनकर टूटी