राजस्थान में कम्यूनिटी संक्रमण का नहीं खतरा


  • पत्रकारों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में मुख्यमंत्री गहलोत ने दी जानकारी
    लॉकडाउन के अगले चरण की रूपरेखा भारत सरकार पर निर्भर


जस्ट टुडे
जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राजस्थान में अभी तक कोविड-19 महामारी कम्यूनिटी संक्रमण की स्थिति में नहीं पहुंची है। जयपुर के रामगंज में बड़ी संख्या में लोग संक्रमित हैं, लेकिन स्थिति अभी भी नियंत्रण में है। राज्य सरकार वहां ज्यादा से ज्यादा लोगों के सैम्पल टेस्ट और पॉजिटिव रोगियों के सम्पर्क में आए अन्य लोगों को क्वारेंटाइन करने पर जोर दे रही है।



उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के अगले चरण की रूपरेखा को विशेषज्ञों की समिति अंतिम रूप दे रही है।
गहलोत ने रविवार को मुख्यमंत्री निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से विभिन्न मीडिया माध्यमों के प्रतिनिधियों के साथ वार्ता में यह बात कही। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के अगले चरण की रूपरेखा केन्द्र सरकार के ऊपर निर्भर है।


भीलवाड़ा मॉडल का मतलब ही सख्ती

एक प्रश्न के जवाब में उन्होंने बताया कि रामगंज में स्वास्थ्य विभाग तथा प्रशासन युद्ध स्तर पर स्क्रीनिंग तथा टेस्टिंग की कार्यवाही को अंजाम दे रहा है, जिससे जल्द संक्रमित लोगों की सही संख्या पता चल जाएगी। घनी आबादी के कारण इस क्षेत्र में लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण एक बड़ी चुनौती है, लेकिन सरकार के विभिन्न विभाग उसी गंभीरता के साथ संक्रमण को रोकने के प्रयास में जुटे हैं। उन्होंने कहा कि 'भीलवाड़ा मॉडल' का मतलब ही 'सख्ती'  है। रामगंज सहित पूरे प्रदेश में जहां भी कोरोना पॉजिटिव मरीज मिल रहे हैं, वहां तयशुदा प्रोटोकॉल का कड़ाई के साथ प्रभावी रूप से पालन कर स्क्रीनिंग, संदिग्ध मरीजों का सर्वे और सैम्पल लेने का काम किया जा रहा है। 

स्क्रीनिंग से ही पता चलता है बीमारों का

एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि सर्वे और स्क्रीनिंग का मकसद घर-घर जाकर इस बात का पता लगाना है कि कहीं कोई बीमार तो नहीं है या किसी में इस वायरस से संबंधित लक्षण पाए जाएं तो वहां मेडिकल टीम भेजी जा सके। भीलवाड़ा में करीब 6 लाख घरों की स्क्रीनिंग हुई थी, जिनमें से 14000 लोगों में फ्लू के लक्षण पाए गए थे, जिनकी आगे जांच कर पॉजिटिव रोगियों का पता लगाया गया। प्रदेश में निरोगी राजस्थान अभियान पहले से ही चल रहा है, जिससे लोगों में जागरूकता है।


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार