प्लाज्मा थैरेपी से कोरोना का इलाज नहीं

जस्ट टुडे
नई दिल्ली। कोरोना को मात देने के लिए पूरे देश में प्लाज्मा थैरेपी की जोर-शोर से वकालत की जा रही है। इसके बीच स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को कहा है कि प्लाज्मा थैरेपी से कोरोना का इलाज नहीं है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसके लिए इंडियन मेडिकल काउंसिल (आईसीएमआर) का हवाला दिया है। इसमें कहा गया है कि यदि कोई इस थैरेपी के जरिए इलाज का दावा करता है तो यह गैर कानूनी है। अभी इसका कोई साक्ष्य नहीं है कि प्लाज्मा थैरेपी से कोरोना मरीज ठीक हो सकते हैं। फिलहाल आईसीएमआर इस पर शोध कर रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि यदि गाइडलाइन का पालन नहीं किया गया तो इसके साइड इफेक्ट भी हो सकते हैं। इसलिए अभी सिर्फ ट्रायल और रिसर्च  ही इस पर किए जा सकते हैं। 

20 देशों की पेश की रिपोर्ट


स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने मंगलवार को कोरोना से प्रभावित दुनिया के 20 देशों से भारत की तुलनात्मक रिपोर्ट भी पेश की। इसमें चीन, इटली, अमरीका, ईरान, यूके जैसे देश शामिल हैं। उन्होंने बताया कि इन देशों की तुलना में भारत में स्थिति काफी अच्छी है। दूसरे देशों में हमारे यहां से 84 गुना ज्यादा केस रिपोर्ट हुए। इन देशों में हमारी तुलना में मौत भी 200 गुना ज्यादा हुईं।


Popular posts from this blog

सांगानेर में 13 ने लिया नाम वापस, अब 37 प्रत्याशी मैदान में 

सांगानेर से फिर एक बार पुष्पेन्द्र भारद्वाज

ग्रेटर चेयरमैन अरुण शर्मा बने ‘डायनेमिक पार्षद’