नगर निगम ने 24199 लोगों तक पहुंचाया राशन

लॉकडाउन का पूरी तरह हो पालन इसलिए असहायों तक घर-घर पहुंचाई जा रही है सूखी राशन सामग्री

 

जस्ट टुडे
जयपुर। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए सरकार द्वारा जारी किए गए लॉकडाउन के निर्देशों का पूरी तरह पालन सुनिश्चित कराने के लिए जिला प्रशासन एवं नगर निगम जयपुर ग्रेटर एवं हेरिटेज असहाय एवं निराश्रित लोगों के घरों तक सूखी राशन सामग्री पहुंचा रहा है। प्राधिकारी एवं आयुक्त नगर निगम जयपुर विजय पाल सिंह ने बताया कि अब तक 24199 परिवारों एवं लोगों तक सूखी राशन सामग्री पहुंचाई जा चुकी है।


10 विधानसभा क्षेत्रों में पहुंची राहत


नगर निगम जोन उपायुक्त एवं अन्य अधिकारियों द्वारा विधानसभा वार सूखी राशन सामग्री वितरित करवाई जा रही है। नगर निगम के अधिकारियों एवं  सिविल डिफेंस पर्सन्स द्वारा नगर निगम क्षेत्र में सूखी राशन सामग्री का वितरण किया जा रहा है। आयुक्त ने बताया कि गुरुवार को 10 विधानसभा क्षेत्रों में 3 हजार 883 एवं बुधवार को 1 हजार 327 परिवारों को सूखी राशन सामग्री पहुंचाई गई। उन्होंने बताया कि इससे पूर्व 18 हजार 989 परिवारों तथा लोगों तक सूखी राशन सामग्री पहुंचाई जा चुकी थी।


2.5 लाख रोज भोजन के पैकेट भी रहे बांट


आयुक्त विजय पाल सिंह ने बताया कि जिला प्रशासन एवं अन्य स्रोतों से  असहाय एवं निराश्रित लोगों की जो सूची प्राप्त हुई उसका वेरिफिकेशन करवाने के बाद राशन सामग्री का वितरण करवाया जा रहा है। आयुक्त ने बताया कि  राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना  के तहत  जिन लाभार्थी परिवारों को  सीधे राशन की दुकानों से  राशन सामग्री मिल रही है  उनके अतिरिक्त  अन्य लोगों को  सूखी राशन सामग्री  उपलब्ध करवाई जा रही है। उन्होंने बताया कि इस कार्य में लगे अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि यदि उन्हें कोई निराश्रित या असहाय लोग मिलते हैं या इसकी सूचना मिलती है तो उनका वेरिफिकेशन करके उन्हें तुरंत सूची में शामिल करें और उन्हें सूखी राशन सामग्री उपलब्ध कराएं।

आयुक्त ने बताया कि इसके अतिरिक्त रोज सवा दो लाख से ज्यादा तैयार भोजन के पैकेट भी लोगों तक पहुंचाए जा रहे हैं।

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार

सांगानेर बाजार में पटाखे की चिंगारी कहर बनकर टूटी