ना होती गाय तो 'कतर' के जाते 'पर' कतर

जस्ट टुडे
दोहा। 'लहरों से डरकर नौका पार नहीं होती...कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।Ó मशहूर कवि हरिवंशराय बच्चन की इस कविता का सार कतर जैसे छोटे देश पर बखूबी लागू होता है। यूं तो कतर हमेशा से ही सम्पन्न देश है, लेकिन, एक समय यह दूध के मामले में सऊदी अरब से होने वाली आपूर्ति पर भी निर्भर था। कुछ समय बाद हालात बदले और कतर के अरब पड़ोसियों ने उसकी नाकेबंदी कर दी। इन सभी ने कतर को भेजे जाने वाली सभी चीजों को तुरन्त रोक दिया। इसके बाद कतर परेशान जरूर हुआ, लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी। उसने स्वयं से वायदा किया कि वे एक साल में दूध के मामले में आत्मनिर्भर हो जाएंगे। कतर देश ने अपने इस लक्ष्य को पा लिया और अब कतर में भी दुधारू गायों की पूरी फौज है। इनके जरिए अब कतरवासी ताजा और शुद्ध दूध पी रहे हैं।

पड़ोसियों ने छोड़ा अकेला...ना डरा...ना झुका


जानकारों का कहना है कि कतर के पड़ोसी मुल्क सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, बहरीन और मिस्र ने उससे सभी तरह के कूटनीतिक, व्यापारिक और ट्रांसपोर्ट लिंक तोड़ लिए थे। इन देशों का आरोप था कि कतर चरमपंथ को समर्थन दे रहा है। साथ ही क्षेत्रीय अस्थिरता फैलाने और अरब देशों के पुराने दुश्मन ईरान के साथ नजदीकियां बढ़ाने का भी आरोप लगाया था। कतर ने इस आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया और उसके सामने मुश्किल खड़ी कर रहे अरब देशों के सामने झुकने से इनकार कर दिया। इस दौलतमंद देश ने खाड़ी देशों के बहिष्कार को अपनी सम्प्रभुता को दी गई चुनौती के तौर पर देखा और इससे बाहर निकलने के रास्ते खोजना शुरू किया। खाड़ी संकट शुरू होने के महीने भर बाद ही अमरीका से गायों की पहली खेप कतर एयरवेज से यहां लाई गईं। 

अब गाय राष्ट्रीय पर्व

अब कतर में गायों के लिए एयरकंडीशंड बाड़ा बना हुआ है। दूध निकालने के लिए अत्याधुनिक किस्म की मशीनें हैं। कतर के सबसे बड़े बलाडना फार्म पर करीब 10 हजार गाय हैं। इनमें अमरीका से लाईं गईं ज्यादातर उन्नत किस्म की हैं। अब इस देश में गाय को राष्ट्रीय पर्व और स्वयं पर भरोसे के प्रतीक के रूप में देखा जाता है। बलडाना फार्म के मैनेजर पीटर वेल्टेवे्रडेन ने कहा कि पहले सभी यह कह रहे थे कि ऐसा करना नामुमकिन है, लेकिन हमने इसे करके दिखा दिया है। हमने वायदा किया था कि कतर का संकट शुरू होने के एक साल के अंदर हम ताजे दूध के मामले में आत्मनिर्भर हो जाएंगे और यह हमने करके दिखा दिया है। 


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार