माफ हो तीन माह की स्कूल फीस

जस्ट टुडे
जयपुर। पिंकसिटी प्रेस क्लब ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मांग है कि कोरोना संकट के वर्तमान कठिन दौर में देश और राजस्थान के समस्त निजी स्कूलों, कॉलेजों और शैक्षणिक संस्थानों को तुरन्त अप्रैल, मई और जून माह की फीस अभिभावकों से वसूल नहीं करने के निर्देश जारी करें। तीन माह की फीस पूरी तरह से माफ की जानी चाहिए। 
पिंकसिटी प्रेस क्लब अध्यक्ष अभय जोशी ने इस बाबत एक पत्र और ईमेल के जरिए प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री से मांग रखी है। निजी स्कूल व कॉलेज इस समय भी मोबाइल पर संदेशों के जरिए फीस के लिए चेता रहे हैं। ज्यादातर निजी स्कूलों में 1 अप्रैल से नए सत्र की शुरुआत कर दी जाती है। इसके लिए आमतौर पर अप्रैल के प्रथम सप्ताह से अभिभावक फीस जमा करना शुरू कर देते हैं, लेकिन देश में चल रहे कोरोना संकट से सभी मुश्किल दौर से गुजर रहे हैं और हालात अभी ठीक नहीं है। क्योंकि, कोई अपने काम पर नहीं जा पा रहा है। इस संकट के समय या तो लोगों को वेतन नहीं मिल पा रहा है या अन्य समस्याएं आ रही हैं। ऐसे में उनके लिए स्कूल की फीस जमा करना फिलहाल मुश्किल है।


फीस वसूली के आने लगे संदेश


जयपुर में छोटे से लेकर बड़े करीब 75 फीसदी स्कूलों ने फीस वसूलने के लिए अभिभावकों को मैसेज भेज दिया है। इसके अलावा कई अभिभावकों को रिमाइंडर मैसेज किए जा चुके हैं। साथ ही उनको फीस भरने के लिए चेताया भी गया है, जिसे लेकर अभिभावक चिंता में हैं। इस समय मध्यम वर्गीय तबका, मजदूर व किसान वर्ग बेहद बुरे दौर से गुजर रहे हैं। इसलिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से निवेदन है कि तीन माह की फीस माफ करने के निजी स्कूलों, कॉलेजों को निर्देश जारी कर आर्थिक तौर पर संकट से गुजर रहे अभिभावकों को राहत दिलाई जाए।


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार