कोरोना को मात दे रही यह मशीन

जस्ट टुडे
वॉशिंगटन। अमरीकी वैज्ञानिकों ने एक शोध में पता लगाया है कि  खून में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ाने वाली मशीन कोरोना मरीजों के इलाज में अहम भूमिका निभा रही है। पश्चिम वर्जीनिया यूनिवर्सिटी ने कई अस्पतालों में रिसर्च के बाद यह नतीजा निकाला है। एक्सट्रापोरियल मेम्ब्रेन ऑक्सीजनेशन मशीन से जुड़ी यह स्टडी 32 मरीजों पर की गई।

जापान ने वैज्ञानिकों ने किया था सबसे पहले दावा


आमतौर पर इस मशीन का इस्तेमाल दिल और फेफड़ों की बीमारी के लिए किया जाता है। यह मरीजों के खून में ऑक्सीजन पहुंचाने का काम करती है, जिससे दिल और फेफड़ों को आराम मिलता है। जिन मरीजों पर यह स्टडी की गई, उन्हें बाकी किसी इलाज से फायदा नहीं हुआ था। स्टडी में पाया गया कि मशीन का इस्तेमाल किए जाने पर दो-तिहाई मरीजों की जान बचाई जा सकी। सबसे पहले जापान के रिसचर्स ने इस बात का दावा किया था।
 
303 मरीजों का किया जा रहा इलाज

इस मशीन की कीमत काफी महंगी होती है, इसलिए प्रत्येक अस्पताल में नहीं होती हैं। साथ ही ये वेंटीलेटर्स की जगह भी नहीं ले सकती हैं। हालांकि, कोरोना के इलाज में ये वेंटीलेटर्स से भी ज्यादा कारगर हैं। उत्तरी अमरीका में करीब 220 और यूरोप में 83 कोरोना वायरस मरीजों का इलाज इस मशीन से किया जा रहा है। डिस्चार्ज किए गए 582 में से 58 लोग सही पाए गए।


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार

सांगानेर में नया अध्यक्ष चुनने आज एक जाजम पर बैठेंगे व्यापारी