कोरोना के इस मामले में राजस्थान का दूसरा नम्बर

कोरोना का संक्रमण रोकने के लिए रूथलेस कन्टेनमेंट पर हो फोकस, ज्यादा से ज्यादा टीमें तैयार कर हर घर का करें सर्वे: मुख्यमंत्री

जस्ट टुडे
जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए रूथलेस कन्टेनमेंट पर फोकस रखा जाए और जो इलाके हॉट-स्पॉट के रूप में चिह्नित किए गए है, वहां कफ्र्यू और आस-पास के इलाकों में लॉकडाउन की सख्ती से पालना कराई जाए। उन्होंने भीलवाड़ा मॉडल को फॉलो करते हुए ज्यादा से ज्यादा टीमें तैयार कर हर घर का सर्वे करने के निर्देश दिए, ताकि सही समय पर कोरोना संक्रमित लोगों का पता चल सके और संक्रमण दूसरों में फैलने से रोका जा सके।



गहलोत ने रविवार को मुख्यमंत्री निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से विभिन्न जिलों के कलक्टर्स एवं कोरोना संक्रमण रोकने में जुटे वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कोरोना प्रभावित जिलों में प्रतिदिन किए जा रहे टेस्ट एवं उपलब्ध टेस्टिंग किट के बारे में जानकारी ली।
 
अभी तक 25 हजार से अधिक टेस्ट हुए
प्रदेश में शनिवार शाम तक करीब 25000 टेस्ट किए गए हैं और कोरोना टेस्टिंग के मामले में महाराष्ट्र के बाद राजस्थान दूसरे स्थान पर है। उन्होंने कहा कि जैसे-जैसे टेस्ट बढ़ेंगे पॉजिटिव मरीजों की संख्या भी बढ़ सकती है? ऐसे में हमें संभावित स्थिति के लिए पहले से ही तैयार रहना होगा। उन्होंने कहा कि टेस्टिंग किट, दवाइयों एवं उपकरणों की कमी होने पर उसकी सूचना दी जाए। टर्शरी केयर फैसिलिटी गंभीर स्थिति वाले मरीजों के लिए रिजर्व रखी जाए। उन्होंने कहा कि स्थानीय स्तर पर डेडिकेटेड कोविड हैल्थ सेंटर्स चिह्नित कर पॉजिटिव पाए गए लोगों का इलाज वहीं करने की तैयारियां रखी जाएं।
 
क्वारेंटाइन सेंटर पर लोगों की सही देखभाल हो
मुख्यमंत्री ने अधिक से अधिक संख्या में क्वारेंटाइन सेंटर्स तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होने कहा कि अस्पतालों में लोगों को क्वारेंटाइन करने से बचें, क्योंकि, वहां पॉजिटिव पाए गए, मरीजों के इलाज के लिए जगह रखना जरूरी है। साथ ही उन्होंने क्वारेंटाइन सेंटर पर रखे जा रहे लोगों की सही देखभाल करने और उन्हें समय पर खाना उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि क्वारेंटाइन में रखे गए, लोगों की देखरेख करना राज्य सरकार का दायित्व है।


भीलवाड़ा में 6000 लोग अभी भी क्वारेंटाइन में
मुख्यमंत्री ने संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित जिलों में विशेष एहतियात बरतने और वहां लॉकडाउन का सख्ती से पालन कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि भीलवाड़ा में 25 कोरोना पॉजिटिव लोगों के ठीक होने के बाद अभी भी एहतियात के तौर पर 6000 लोग होम क्वारेंटाइन में रखे गए हैं।
 
हर घर का सर्वे करें
गहलोत ने कहा कि अन्य जिलों में भी जहां पॉजिटिव मरीज मिले हैं, वहां के कलक्टर्स इस महामारी को गंभीरता से लें और हर घर का सर्वे सुनिश्चित करें। पॉजिटिव मरीज के रिश्तेदारों, करीबियों और उनके सम्पर्क में आए अन्य लोगों को क्वारेंटाइन किया जाए और जरूरत पडऩे पर आइसोलेशन में रखा जाए। 


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार