कोरोना के गंभीर मरीजों को भी तंदुरुस्त करेगी प्लाज्मा थैरेपी, अगले सप्ताह राजस्थान में भी होगी शुरू !

आईसीएमआर से मांगी गई है अनुमति, स्टेज-टू के मरीजों का संभव है इलाज- चिकित्सा मंत्री

जस्ट टुडे
जयपुर। दुनियाभर के वैज्ञानिक जहां कोरोना के खात्मे के लिए वैक्सीन बनाने में जुटे हैं। वहीं पता चला है कि प्लाज्मा थैरेपी कोरोना के इलाज में कारगर है। ऐसे में राजस्थान सरकार ने आईसीएमआर(इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) से इसका इस्तेमाल करने की मंजूरी मांगी है। इधर, राज्य के सबसे बड़े अस्पताल सवाईमानसिंह ने प्लाज्मा डोनर भी तैयार कर लिया है, ऐसे में केन्द्र की मंजूरी मिलते ही प्लाज्मा थैरेपी से कोरोना का इलाज शुरू हो जाएगा। इसी के साथ एसएमएस अस्पताल ऐसा करने वाला प्रदेश का पहला अस्पताल भी बन जाएगा।

सात दिन की मेहनत के बाद टीम ने किया ओके


फोटो प्रतीकात्मक

राजस्थान में दिन-प्रतिदिन कोरोना के मरीज बढ़ते ही जा रहे हैं। लेकिन, अभी तक इसके इलाज की कोई पुख्ता व्यवस्था नहीं है। ऐसे में एसएमएस प्रशासन ने प्लाज्मा थैरेपी से इलाज करने की योजना बनाई है। प्लाज्मा थैरेपी के लिए एक टीम भी बनाई गई। इस टीम ने सात दिन की अथक मेहनत के बाद प्लाज्मा थैरेपी से इलाज करने की मंजूरी दे दी। इन सात दिनों में टीम ने प्लाज्मा थैरेपी से इलाज की तकनीक का ट्रायल किया। इसके बाद अब प्लाज्मा थैरेपी के जरिए इलाज करने के लिए आईसीएमआर से अनुमति मांगी गई है।

इन तीन राज्यों में हो रहा प्लाज्मा थैरेपी से इलाज

प्लाज्मा थैरेपी से कोरोना का इलाज दिल्ली, केरल और मध्यप्रदेश में शुरू हो चुका है। दिल्ली में इस थैरेपी के जरिए इलाज के नतीजे बेहतर आ रहे हैं। 

5 दिन में मिल सकती है अनुमति

इस टीम में एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. सुधीर भण्डारी, ब्लड बैंक इंचार्ज डॉ. सुनीता बुंदास, मेडिसिन प्रोफेसर डॉ. रमन शर्मा और मेडिसिन डॉ. अजीत सिंह हैं।  टीम सदस्यों का कहना है कि उम्मीद है कि करीब 5 दिनों में अनुमति मिल जाएगी, इसके बाद प्लाज्मा थैरेपी से इलाज शुरू कर देंगे।

जानिए क्या है प्लाज्मा थैरेपी

प्लाज्मा थैरेपी में एंटीबॉडी इस्तेमाल किया जाता है। जब कोई व्यक्ति किसी वायरस से पीडि़त होता है तो उसके शरीर में एंटीबॉडी बनता है। चूंकि, अभी कोरोना वायरस का प्रकोप है और जो मरीज इससे ठीक हो गए हैं, उनके शरीर में इस वायरस के खिलाफ एंटीबॉडी बन जाता है।

निगेटिव हुए मरीजों के लिए ब्लड सैम्पल, हम तैयार सिर्फ अनुमति का इंतजार


चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि कोरोना के इलाज के लिए प्रदेश में प्लाज्मा थैरेपी की तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। चिकित्सकों की टीम इसके लिए पूरी तरह तैयार है और सरकार ने अनुमति के लिए आईसीएमआर को लिखा है, अनुमति मिलते ही प्रदेश में प्लाज्मा थैरेपी से इलाज शुरू हो सकेगा। प्लाज्मा थैरेपी के जरिए इलाज के लिए चिकित्सकों की टीम ने पॉजीटिव से निगेटिव हुए मरीजों के ब्लड सैंपल ले लिए हैं। उनका प्लाज्मा लेकर गंभीर या स्टेज-टू के मरीजों का इलाज किया जा सकता है। 


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार