इस देश में कोरोना शब्द बोलने और मास्क पहनने वालों को हो रही जेल

तुर्कमेनिस्तान में नहीं कोरोना को स्थान, सरकार ने कहा, कोरोना नाम की कोई बीमारी नहीं

जस्ट टुडे
अश्गाबात (तुर्कमेनिस्तान)। वैश्विक महामारी कोरोना के कहर से चीन और अमरीका जैसे शक्ति सम्पन्न देश भी त्राहि-त्राहि कर रहे हैं। समस्त विश्व के देश इस संक्रमण के आगे बेेबस हैं, लेकिन, इन सभी तथ्यों के बीच एक ऐसा देश भी है, जहां पर कोरोना का कोई खौफ नहीं है।


इस देश का कहना है कि कोरोना नाम की कोई बीमारी है ही नहीं। आश्चर्यजनक बात यह है कि इस देश ने अपने यहां कोरोना शब्द के इस्तेमाल पर ही बैन लगा दिया है। यदि कोई नागरिक कोरोना का नाम ले भी रहा है तो उसे जबरदस्ती जेल में बंद किया जा रहा है। जबकि इसके पड़ोसी देश ईरान में कोरोना की भयावह तस्वीर सामने है। इस देश का नाम है तुर्कमेनिस्तान।
 
मास्क पहनने पर हो रही जेल


अब इसे तुर्कमेनिस्तान की शक्ति कहें या फिर पागलपन, लेकिन, उसने अपने यहां कोरोना शब्द लिखने और बोलने पर बैन लगा दिया है। हैरानी की बात तो यह है कि यहां पर मास्क पहनने पर लोगों के खिलाफ कार्रवाई हो रही है। यह सब आदेश वहां के राष्ट्रपति गुरबांगुली बेयरडेमुकामेडॉव ने लगाया है। सरकार के खुफिया एजेंट्स जनता के बीच घूम रहे हैं, यदि कोई कोरोना की चर्चा करता दिख जाता है तो उसे जेल में बंद कर दिया जा रहा है।
 
विशेषज्ञों ने आंकड़े छिपाने का लगाया आरोप

आधिकारिक आंकड़ों की बात करें तो अभी तक इस देश में एक भी कोरोना का केस सामने नहीं आया है। हालांकि, विशेषज्ञों भी इस बात से सहमत नहीं है। विशेषज्ञों का कहना है कि तुर्कमेनिस्तान कोरोना संक्रमण के आंकड़े छिपा रहा है। इस देश ने करीब एक महीने पहले ही अपने देश के बॉर्डर सील कर दिए थे। वहीं चीन सहित बाकी देशों से आने वाले विमानों के रास्तों को डायवर्ट कर दिया गया था।


लोग कर रहे पिकनिक, मना रहे जन्मदिन


तुर्कमेनिस्तान में लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग भी की जा रही है। लेकिन, इसके बावजूद भी बाकी देशों के अलावा वहां जनजीवन बहुत सामान्य है। लोग भारी संख्या में पिकनिक में एकत्रित हो रहे हैं। बर्थ डे हो या शादी लोग भारी संख्या में पहुंच रहे हैं। हालांकि, इससे पहले भी तुर्कमेनिस्तान पहले भी बीमारियों को लेकर आंकड़े छिपा चुका है। इसमें एड्स और प्लेग भी शामिल हैं। वहीं, प्रेस स्वतंत्रता के मामले में भी ये देश 180 देशों की सूची में सबसे आखिरी स्थान पर है।


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार