इन गरीब देशों में कोरोना से होगी 30 लाख मौत

जस्ट टुडे
लंदन। कोरोना ने पूरी दुनिया में त्राहि-त्राहि मचा रखी है। पूरी दुनिया में लाखों लोगों को यह अब तक लील चुकी है। ऐसे में सभी यह कयास लगाते हैं कि कोरोना दुनियाभर में कितने लोगों को काल का ग्रास बना लेगा। ऐसा ही कुछ आकलन किया है, इंटरनेशनल रेस्क्यू कमेटी (आईआरसी) ने। कमेटी ने मंगलवार को एक रिपोर्ट जारी की।



इस रिपोर्ट में कोरोना पर जनहानि की बड़ी चेतावनी दी है। ब्रिटेन के पूर्व विदेश सचिव डेविड मिलिबैंड की अध्यक्षता वाली इस एजेंसी के मुताबिक, दुनिया के 34 सर्वाधिक गरीब देशों में कोरोना वायरस का विनाशकारी प्रभाव होगा। इसके कारण करीब एक अरब लोगों में संक्रमण हो सकता है। 30 लाख लोगों की मौत हो सकती है।

भारत का नाम नहीं...पड़ोसी देश हैं शामिल

इन देशों में भारत का नाम नहीं है। वहीं भारत के पड़ोसी देशों पाकिस्तान, बांग्लादेश और म्यांमार का नाम इस लिस्ट में शामिल है। साथ ही अफगानिस्तान, सीरिया और यमन जैसे देश शामिल हैं। यहां इंटरनेशनल रेस्क्यू कमेटी सेवाएं दे रही हैं। मिलिबैंड ने कहा कि कोरोना से वास्तविक जनहानि कहीं अधिक होगी। गरीब देश इस बीमारी से लडऩे में सक्षम नहीं है, ऐसे में वहां पर कोरोना से ज्यादा विनाश होगा।

ये देश शामिल हैं इस सूची में

अफगानिस्तान, पाकिस्तान, बांग्लादेश, बुरुंडी, बुर्किना, फासो, कैमरून, सेन्ट्रल अफ्रीकन रिपब्लिक, चाड, कोलम्बिया, कोट डी आइवर, कांगो, अल सल्वाडोर, इथियोपिया, ग्रीस, इराक, जॉर्डन, केन्या, लेबनान, लाइबेरिया, लीबिया, माली, म्यांमार, नाइजर, नाइजीरिया, सिएरा लियोन, सोमालिया, दक्षिण सूडान, सीरिया, तंजानिया, थाईलैंड, युगांडा, वेनेजुएला और यमन।


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार