अब मौसम की बनेगी सटीक कुण्डली

- भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने लॉन्च की नई ईपीएस मॉडल प्रणाली
- 12 किमी. के क्षेत्र का विश्लेषण कर मौसम का सटीक पूर्वानुमान देने में सक्षम
- इस नई प्रणाली को अपनाने वाला भारत, अमरीका के बाद दूसरा देश

जस्ट टुडे
नई दिल्ली। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने अगले 10 दिनों तक मौसम का पूर्वानुमान लगाने वाली एक नई एन्सेबल भविष्यवाणी प्रणाली (ईपीएस) लॉन्च की है। आईएमडी के मुताबिक अभी मौसम के पूर्वानुमानों में भारी त्रुटि होती हैं। ये नई प्रणालियां निर्धारित पूर्वानुमानों में सुधार करेंगी। ईपीएस में अलग-अलग प्रारंभिक स्थितियों का इस्तेमाल करते हुए कई पूर्वानुमानों की पीढ़ी को शामिल किया गया है। मौसम विभाग ने बताया कि यह मौसम पूर्वानुमान का सबसे सटीक और नया मॉडल है। इसके जरिए बारिश, गर्मी, सर्दी सहित मौसम की चरम घटनाओं का अधिक सटीक पूर्वानुमान लगेगा। यूरोप में उपलब्ध ऐसी प्रणाली के बाद नई एन्सेबल भविष्यवाणी प्रणाली(ईपीएस) को सर्वोत्तम मॉडल के रूप में बताया गया है।

किसानों पर नहीं पड़ेगी मौसम की मार


मौसम विभाग के मुताबिक इस नए मॉडल से किसानों को पहले से ही बताया जा सकेगा कि अमुक समय तेज बारिश आएगी, ऐसे में किसान पहले से ही फसलों को बचाने के पुख्ता इंतजाम कर पाएंगे। साथ ही प्रशासन भी समय पर सहायता देने में सक्षम हो सकेगा। ऐसे में किसानों को मौसम की मार से आहत नहीं होना पड़ेगा। साथ ही हमें जल संसाधन के बेहतर प्रबंधन में भी मदद मिलेगी। वहीं पर्यटन, सौर और पवन ऊर्जा को बढ़ावा देने में भी हमारी सहायता करेगा। 

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय की देन

इस नए मॉडल को पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के तहत तीन निकायों की ओर से विकसित किया गया है। इनमें भारतीय मौसम विज्ञान विभाग, नेशनल सेंटर फोर मध्यम रेंज मौसम पूर्वानुमान और भारतीय उष्णकटिबंधीय मौसम विज्ञान संस्थान है। इस नई एन्सेम्बल भविष्यवाणी प्रणाली को संयुक्त रूप से 450 करोड़ रुपए की लागत से पेंटा कम्प्यूटर के साथ खरीदा गया है।
इसके जरिए बारिश, गर्मी, सर्दी सहित मौसम की चरम घटनाओं का अधिक सटीक पूर्वानुमान लगेगा। यूरोप में उपलब्ध ऐसी प्रणाली के बाद नई एन्सेबल भविष्यवाणी प्रणाली(ईपीएस) को सर्वोत्तम मॉडल के रूप में बताया गया है।
अमरीका के बराबर आया भारत
इस मॉडल के साथ ही भारत भी अमरीका के साथ उस विशेष श्रेणी में शामिल हो जाता है, जो 
12 किमी. के क्षेत्र का विश्लेषण कर मौसम की सटीक भविष्यवाणी करता है। वर्तमान में यूनाइटेड किंगडम का 'यूरोपीय-मध्यम मौसम पूर्वानुमानÓ के लिए जाना जाता है। यह सिर्फ 9 किमी. की सटीक भविष्यवाणी कर सकता है।


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार