रामजीलाल ने ठोकी ताल, सांगानेर व्यापारियों का बनाओ सरदार

- सांगानेर बाजार में फिर उठी नए व्यापार महासंघ और नए अध्यक्ष की मांग

जस्ट टुडे
जयपुर।
सांगानेर बाजार में कहने को तो दो व्यापार महासंघ हैं, लेकिन दोनों ही निष्क्रिय हैं। दोनों ही व्यापार महासंघों के पदाधिकारियों ने व्यापारियों के हितों के बजाय अपने ही राजनीतिक हितों की पूर्ति की। नतीजतन दोनों ही व्यापार महासंघों से व्यापारियों का मोहभंग हो चुका है। व्यापार महासंघों के निष्क्रिय होने से व्यापारियों की सुनवाई नहीं हो रही है। ऐसे में समस्त व्यापारियों ने मांग की है कि सांगानेर बाजार में नया व्यापार महासंघ बने। साथ ही अध्यक्ष सहित कार्यकारिणी भी नई बने। यदि सांगानेर में नया व्यापार महासंघ बनता है तो अध्यक्ष पद की दौड़ में रामजीलाल शर्मा (बांगड़ा) का नाम फिलहाल सुर्खियों में चल रहा है। सांगानेर बाजार में कई जगह पर इनके नाम पर चर्चाओं का बाजार गर्म है। इसे लेकर जस्ट टुडे ने रामजीलाल शर्मा से बात की तो उन्होंने भी अध्यक्ष बनने पर सहमति जताई है। 

सभी का आना चाहिए नम्बर

जस्ट टुडे से बातचीत में रामजीलाल शर्मा (बांगड़ा) ने बताया कि परिवर्तन समय की मांग है। समय के अनुसार अध्यक्ष सहित अन्य पदाधिकारियों को बदला जाना आवश्यक है। यदि हमेशा कुछ लोग ही पदाधिकारी बने रहेंगे तो यह लोकतंत्र का अपमान होगा। लोकतंत्र की खूबसूरती इसी में है कि सभी का नम्बर आए। यदि व्यापारी मुझे नए व्यापार महासंघ का अध्यक्ष बनाना चाहें तो मैं इस पद की जिम्मेदारी निभाने को तैयार हूं। सर्व समाज के व्यापारियों का मुझे समर्थन है। सिन्धी समाज के मुखिया उत्तमचंद बच्चानी ने भी मुझे समर्थन दे दिया है। अभी बाजार में कोई भी व्यापार महासंघ नहीं होने से व्यापारी हितों के कार्य ही नहीं हो रहे हैं। सुविधाएं नहीं होने से ग्राहकों का बाजार से मोहभंग हो रहा है। यदि मैं सर्वसम्मति से अध्यक्ष बनता हूं तो सबसे पहले उचित पार्किंग की व्यवस्था कराऊंगा। व्यापार महासंघ पर किसी भी राजनीतिक दल का ठप्पा नहीं लगने देंगे। जो राजनीतिक दल व्यापारियों के हितों की बात करेगा, उसका ही व्यापारी समर्थन करेंगे। 

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार