समर्पण संस्था ने 11 जरूरतमंदों को दिलाया राशन

- कोरोना के चलते लोकोपकार-2 अभियान में अब डिजीटल पेमेंट से की जा रही है मदद


जस्ट टुडे
जयपुर।
समर्पण संस्था की ओर से रेड अलर्ट जन-अनुशासन लॉकडाउन में संकटग्रस्त जरूरतमंद परिवारों की निरन्तर मदद की जा रही है। कोरोना की भयावह स्थिति के चलते जरूरतमंद परिवारों को डिजीटल पेमेंट के जरिए राहत सामग्री दिलवाई जा रही है। लोकोपकार-2 अभियान के छठे चरण के तहत गुरुवार को करीब 11 लोगों को डिजीटल पेमेंट से राशन दिलवाया गया। 

इन जगहों पर दिलाया जरूरतमंदों को राशन


समर्पण संस्था के संस्थापक अध्यक्ष और आर्किटेक्ट डॉ. दौलत राम माल्या ने बताया कि समाज सेविका कनिका भगेरिया के सहयोग से गोपालपुरा बायपास पर 5 जरूरतमंद बंगाली परिवारों को डिजिटल पेमेंट कर राशन दिलाया गया। वहीं समाज सेविका लक्ष्मी सपेरा के सहयोग से कलाकार कॉलोनी, पानीपेच के 5 जरूरतमंद कलाकार परिवारों को डिजिटल पेमेंट कर राशन दिलाया गया। सांगानेर में एक जरूरतमंद विकलांग परिवार को भी डिजिटल पेमेंट कर राशन दिलाया गया।

लोकोपकार-2 में अब तक 60 जरूरतमंदों की मदद

10 किलो आटा, 1 किलो चावल, 1 किलो चीनी, 500 ग्राम दाल, 1 लीटर तेल, 1 किलो नमक, 100 ग्राम चाय, 100 ग्राम मिर्च, 100 ग्राम हल्दी आदि दिए गए। संस्था की ओर से अभी तक लोकोपकार-2 अभियान में 60 जरूरतमंद परिवारों को राशन दिलवाया जा चुका है। 

दानदाताओं से सहयोग की अपील...

समर्पण संस्था के संस्थापक अध्यक्ष और आर्किटेक्ट डॉ. दौलत राम माल्या ने समाज के सम्पन्न वर्ग से अपील की है कि वे अपने सामथ्र्य अनुसार दान करें, जिससे अधिक से अधिक जरूरतमंदों की मदद की जा सके। संस्था में दान राशि पर आयकर अधिनियम 80 जी के तहत इनकम टैक्स में छूट होगी। 

संस्था के बैंक खाते का विवरण

A/c Name : Samarpan Sanstha, 

Bank Name : AXIS Bank Ltd.

 A/c No. 909010036941934 

IFSC Code UTIB0000433 

PhonePe number....9414336431

Google pay, Paytm number.... 9929225353

(नोट : फोन पे, गूगल पे, पेटीएम करने वाले दानदाताओं को व्यक्तिगत खाता होने के कारण नकद की रसीद बनाई जाएगी।)

Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार