भालू को भाया तरबूज और चीता पी रहा ग्लूकोज

जस्ट टुडे की खास खबर


- गर्मी के मौसम में नाहरगढ़ जैविक उद्यान में वन्यजीवों का भी बदला खानपान 

- डिहाइड्रेशन से बचाने विटामिन सहित जरूरी पोषक तत्व किए भोजन में शामिल


जस्ट टुडे
जयपुर। जेठ मास में राजधानी सहित प्रदेश में गर्मी सितम ढहा रही है। 'हठयोग' के चलते तापमान नीचे उतरने का नाम ही नहीं ले रहा है। इस गर्मी की मार में इनसान तो इनसान जानवर भी बेहाल है। ऐसे में बीमारियों से बचने के लिए खान-पान का विशेष ध्यान रखना पड़ता है। जयपुर में तापमान में बदलाव के साथ ही वन्यजीवों का मैन्यू भी बदल गया है।

बढ़ जाता है डिहाइड्रेशन का खतरा


विशेषज्ञों के अनुसार गर्मी के मौसम में वन्यजीवों को डिहाइड्रेशन का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में उनके शरीर के तापमान को संतुलित रखने के लिए विटामिन और ग्लूकोज की मात्रा का विशेष ध्यान रखना जरूरी है। 
जयपुर में नाहरगढ़ जैविक उद्यान में गर्मी से राहत देने के लिए भालू को तरबूज, आइसक्रीम और शहद दिया जा रहा है तो वहीं शेर, बाघ और चीता को ग्लूकोस पिलाया जा रहा है। 


मौसम के अनुरूप दे रहे खान-पान


वन्यजीव चिकित्सा अधिकारी डॉ. अशोक तंवर ने बताया कि मौसम के अनुरूप फल-सब्जी और विटामिन वन्यजीवों के खानपान में शामिल किए गए हैं। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन 5 में मिली राहत के बाद यहां सैलानियों की आवाजाही भी शुरू हो चुकी है।


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार