आनन्द आश्रम से मिल रहा जरूरतमंदों को परमानन्द 

सांगानेर स्थित सिन्धी धर्मशाला में जरूरतमंदों के लिए रोजाना बन रहे 500 भोजन पैकेट्स


जस्ट टुडे
जयपुर। कोरोना महामारी के चलते लगे लॉकडाउन से सर्वाधिक मार दिहाड़ी मजदूरों और गरीबों पर पड़ी। ऐसे में सरकार के साथ ही समाज-सेवियों और विभिन्न संगठनों ने इन जरूरतमंदों की व्यथा को समझते हुए इनके लिए दो जून की रोटी का इंतजाम किया। सरकार ने एक के बाद एक लॉकडाउन 4.0 की घोषणा कर दी, लेकिन समाज-सेवियों की मदद अनवरत जारी है, ऐसे में इन जरूरतमंदों को भरपेट भोजन नसीब हो रहा है। कुछ ऐसा ही नेक कार्य सांगानेर स्थित आनन्द आश्रम की ओर से भी किया जा रहा है। 

500 भोजन पैकेट्स रोज हो रहे वितरित


मीडिया प्रभारी पुरुषोत्तम बच्चानी ने बताया कि सांगानेर स्थित सिन्धी धर्मशाला (आनन्द आश्रम) में रोजाना 500 भोजन के पैकेट तैयार करवाकर जरूरतमंद परिवारों को वितरित किए जा रहे हैं। ये सभी पैकेट्स सांगानेर के विभिन्न क्षेत्रों में सेवादारों के जरिए वितरित किए जा रहे हैं। इस सेवा कार्य में समाज के सेवादार बढ़-चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं।

भोजन का रोज अलग जायका


आनन्द आश्रम के संचालक देवानंद तिथानी और उनके सहयोगी ने बताया कि अभी तक कई समाज-सेवी और विभिन्न संगठन जरूरतमंदों को भोजन उपलब्ध करवा रहे थे। लेकिन, समय के साथ जरूरतमंदों की सहायता करने वालों की संख्या कम होती गई। ऐसे में अब मई माह से आनन्द आश्रम जरूरतमंदों की मदद के लिए आगे आया है। उन्होंने बताया कि रोजाना भोजन में अलग-अलग खाद्य सामग्री होती है। कभी नमकीन चावल, मीठे चालव, छोले, पूड़ी, सब्जी, अचार, टिपोरे के साथ गुणवत्तापूर्ण भोजन तैयार करवाया जा रहा है। भोजन पैकेट दोपहर तीन बजे से पांच बजे तक सेवादारियों के जरिए अलग-अलग क्षेत्रों में वितरित किया जा रहा है। भोजन बनाते समय हलवाइयों और सेवादारों की ओर से सोशल डिस्टेंसिंग सहित सभी हिदायतों का पालन किया जा रहा है।


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार