नाम भी रॉयल, काम भी रॉयल

लॉकडाउन के चलते शहर के 32 क्षेत्रों में जरूरतमंद को पहुंचा रहे खाना, दवाई, मास्क और रक्त



जस्ट टुडे
जयपुर। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के महासंकट से निपटने में हरेक व्यक्ति समाज को अपना कुछ ना कुछ योगदान दे रहा है। कई समाज-सेवी संस्थाएं भूखे और मूक प्राणियों के लिए भोजन-पानी की व्यवस्था कर रही हैं तो कई मास्क और सेनेटाइजर की। यानी आम से लेकर खास व्यक्ति इस महासंकट को हराने के लिए समाज में अपना भरपूर सहयोग दे रहा है। ऐसा ही एक सामाजिक संगठन है रॉयल ग्रुप। जैसा इसका नाम है वैसा ही रॉयल इस गु्रप का कार्य है। 


सर्व समाज का है ग्रुप


रॉयल ग्रुप के संचालक रविन्द्र सिंह चिण्डालिया ने बताया कि इस ग्रुप से जुड़े लोग जयपुर के विभिन्न क्षेत्रों में रहते हैं। लॉकडाउन के दिन से ही इस ग्रुप के सदस्य शहर के विभिन्न क्षेत्रों में जरूरतमंदों को सूखा राशन, भोजन के पैकेट, मास्क, सेनेटाइजर से लेकर खून की भी व्यवस्था करवा रहे हैं। सर्व समाज के इस ग्रुप में विभिन्न तबके और प्रोफेशन से जुड़े हुए लोग हैं। सभी लोग आर्थिक मदद कर रहे हैं और उस राशि से जरूरतमंदों को जरूरी सहायता पहुंचाई जा रही है। 


2500 लोग जुड़े हुए हैं ग्रुप से


रविन्द्र सिंह चिण्डालिया ने बताया कि शुरुआत में ग्रुप में बहुत कम लोग थे। लेकिन, समाज-सेवा के निष्काम उद्देश्य ने बहुत ही जल्द ग्रुप का विस्तार कर दिया। वर्तमान में ग्रुप में करीब 2500 लोग हैं। ग्रुप के सदस्य अलग-अलग इलाकों में भोजन के पैकेट तैयार करवाकर नियमित तौर पर लोगों तक पहुंचा रहे हैं। 


ऐसे कर रहे मदद


जयपुर शहर के अलग-अलग 32 क्षेत्रों में रहने वाले कुछ मुख्य लोगों के नाम और उनके फोन नम्बर की एक सूची तैयार की गई। जिस इलाके में किसी जरूरतमंद को खाने-पीने के सामान की दरकार होती है वह उस सूची में से अपने इलाके के व्यक्ति से सम्पर्क कर जरूरतमंद को तुरन्त मदद पहुंचा देते हैं। 


पूरे शहर में दे रहे सेवा


रॉयल ग्रुप शहर के अजमेर रोड, वैशाली नगर, पांच्यावाला, सिरसी रोड, मानसरोवर, श्याम नगर, गोपालपुरा, रिद्धि सिद्धि, मालवीय नगर, ट्रांसपोर्ट, नगर, रामगढ़ मोड़, राजा पार्क, वीकेआई, सरना डूंगर, सीकर रोड, विद्याधर नगर, बनीपार्क, अम्बाबाड़ी, दिल्ली रोड और सांगानेर सहित शहर में लगभग सभी जगह सेवा दे रहा है। कोई भी जरूरतमंद ग्रुप से संकट की इस घड़ी में सहायता ले सकता है। ग्रुप हर संभव सहयोग के लिए तैयार है। ग्रुप मुख्यमंत्री सहायता कोष में राशि देने के लिए सहयोग जुटा रहा है। ग्रुप का लक्ष्य करीब पांच लाख रुपए जुटाने का है। अभी तक करीब तीन लाख से अधिक राशि जमा हो चुकी है।


Popular posts from this blog

सांगानेर सिंधी पंचायत और सिंधी ब्रह्म खत्री ने त्रिलोक महाराज को हटाया

केन्द्र सरकार से पैसा अटका, सीईटीपी प्लांट तीन साल से लटका...अब प्रदूषण मंडल ने कोर्ट से दिया झटका

व्यापार महासंघ, सांगानेर के पूर्व पदाधिकारियों की मीटिंग से जन्मा नया विवाद, एक पदाधिकारी ने चुनाव पर सहमति होना बताया तो दूसरों ने किया इससे इनकार